S M L

अवैध रूप से अमेरिका में घुसे पंजाबी युवा अमेरिकी जेलों में हैं बंद

नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन (एनएपीए) से जुड़े सतनाम सिंह चहल ने बताया कि हजारों भारतीय अमेरिकी जेलों में बंद हैं. इनमें से ज्यादातर पंजाब के हैं

Bhasha Updated On: Jun 22, 2018 04:49 PM IST

0
अवैध रूप से अमेरिका में घुसे पंजाबी युवा अमेरिकी जेलों में हैं बंद

अमेरिका में अवसरों की तलाश में कई देशों को पार करके बंटी सिंह (काल्पनिक नाम) अवैध तरीके से अमेरिका में घुस गया, लेकिन पकड़े जाने पर न्यू मेक्सिको के आप्रवासी हिरासत केंद्र में उसे डाल दिया गया और वह पिछले 16 महीने से वहां पड़ा है.

जालंधर के मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले सिंह ने दो साल पहले अपना गृह नगर छोड़ा था. सिंह के पिता पंजाब पुलिस में हैं जबकि मां गृहिणी हैं.

एक स्थानीय ट्रैवेल एजेंट ने अमेरिका ले जाने का वादा करके उसे प्रलोभन दिया. कई महीनों के बाद विभिन्न देशों को पार करके जब उसने टेक्सास में अल पासो के निकट मेक्सिको सीमा के जरिए अमेरिका में घुसने का प्रयास किया तो उसे पकड़ लिया गया और तब से वह हिरासत में है.

न्यू मेक्सिको के ओटेरो में संघीय हिरासत केंद्र में 16 महीने गुजारने के बाद सिंह को अब स्वेदश भेजे जाने की प्रक्रिया चल रही है.

उसे फुसलाकर ले जाने वाला ट्रैवेल एजेंट फरार है. सिंह के परिवार के सदस्यों का कहना है कि वे अब तक तकरीबन 47 लाख रुपए खर्च कर चुके हैं और इसमें से ज्यादातर राशि एजेंट और उनके मामले की पैरवी करने के लिए एक स्थानीय वकील को रखने में खर्च हुई है.

सिंह अकेले नहीं हैं, बल्कि ऐसे तकरीबन 100 भारतीय हैं जिन्हें अवैध तरीके से अमेरिकी सीमा को पार करने पर पकड़े जाने के बाद दक्षिण अमेरिकी राज्य न्यू मेक्सिको और ओरेगन में दो आप्रवासी हिरासत केंद्रों में रखा गया है. इनमें से ज्यादातर पंजाब के हैं.

अधिकारियों के अनुसार, तकरीबन 40 से 45 भारतीय न्यू मेक्सिको के संघीय हिरासत केंद्र में हैं, जबकि 52 भारतीय ओरेगन स्थित हिरासत केंद्र में रखे गए हैं. इनमें से ज्यादातर सिख और ईसाई हैं.

नॉर्थ अमेरिकन पंजाबी एसोसिएशन (एनएपीए) से जुड़े सतनाम सिंह चहल ने बताया कि हजारों भारतीय अमेरिकी जेलों में बंद हैं. इनमें से ज्यादातर पंजाब के हैं.

चहल ने आरोप लगाया कि मानव तस्करों, अधिकारियों और पंजाब के नेताओं का एक गठजोड़ है जो पंजाब के युवाओं को अवैध तरीके से अमेरिका में घुसने के लिये अपना घर छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करता है और हर व्यक्ति से 35-50 लाख रुपये वसूल किए जाते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi