S M L

2019 के पहले आदेश में शी जिनपिंग बोले- युद्ध के लिए तैयार रहे चीनी सेना

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने कहा- दक्षिण चीन सागर में क्षेत्रीय विवादों के बीच चीन अपने सशस्त्र बलों को बढ़ावा दे रहा है

Updated On: Jan 05, 2019 11:11 AM IST

FP Staff

0
2019 के पहले आदेश में शी जिनपिंग बोले- युद्ध के लिए तैयार रहे चीनी सेना

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने शुक्रवार को शीर्ष अधिकारियों की एक बैठक में चीन के सशस्त्र बलों को युद्ध की तैयारी के लिए अपनी इच्छा को मजबूत करने के लिए कहा. उन्होंने कहा कि इस वक्त वह सब कुछ करने की जरूरत है जो युद्ध के लिए जरूरी है.

न्यूज़18 की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा कि दक्षिण चीन सागर में क्षेत्रीय विवादों के बीच चीन अपने सशस्त्र बलों को बढ़ावा दे रहा है और व्यापार से लेकर ताइवान की स्थिति तक के मुद्दों पर संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ तनाव बढ़ा रहा है.

सशस्त्र बलों को नए युग के लिए रणनीति तैयार करनी चाहिए

सरकारी शिन्हुआ समाचार एजेंसी ने कहा कि शी ने शीर्ष सैन्य प्राधिकरण की बैठक में कहा कि चीन को बढ़ते जोखिम और चुनौतियों का सामना करना पड़ा. उन्होंने कहा- सशस्त्र बलों को अपनी सुरक्षा और विकास की जरूरतों को पूरा करने के लिए काम करना चाहिए. शी, जो केंद्रीय सैन्य आयोग के अध्यक्ष भी हैं, ने कहा कि सशस्त्र बलों को नए युग के लिए रणनीति तैयार करनी चाहिए और युद्ध की तैयारियों सहित उसकी जिम्मेदारी भी लेनी चाहिए.

china military

चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी दुनिया की सबसे बड़ी थल सेना है

चीन अभी भी विकास के रणनीतिक अवसर की महत्वपूर्ण अवधि में है

उन्होंने कहा- दुनिया एक सदी में कभी नहीं देखे गए प्रमुख परिवर्तनों की अवधि का सामना कर रही है और चीन अभी भी विकास के रणनीतिक अवसर की महत्वपूर्ण अवधि में है. उन्होंने कहा कि सशस्त्र बलों को आपात स्थिति में तेजी से प्रतिक्रिया देने में सक्षम होने की जरूरत है. उनकी संयुक्त संचालन क्षमताओं को उन्नत करने और नए प्रकार की लड़ाकू बलों को तैयार करने की आवश्यकता है.

चीन ने ताइवान के साथ पुनर्मिलन प्राप्त करने का अधिकार सुरक्षित रखा

उन्होंने कहा- चीन ने अभी भी ताइवान के साथ पुनर्मिलन प्राप्त करने और द्वीप की स्वतंत्रता को रोकने के लिए बल का उपयोग करने का अधिकार सुरक्षित रखा है. बता दें कि शी का ताइवान भाषण अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा कानून में एशिया के आश्वासन पहल अधिनियम पर हस्ताक्षर करने के कुछ ही दिनों बाद आया है जो कि द्वीप की सुरक्षा के लिए अमेरिका की प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi