S M L

दावोस में फोरम से सड़कों तक बस इंडिया ही इंडिया

यहां चाय और पकौड़े की मांग सबसे ज्यादा बनी हुई है, साथ ही वड़ा-पाव और डोसा भी लोगों के बीच काफी पसंद किए जा रहे हैं

Updated On: Jan 23, 2018 11:49 AM IST

FP Staff

0
दावोस में फोरम से सड़कों तक बस इंडिया ही इंडिया

पांच दिन तक चलने वाले वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की मेजबानी कर रहा स्विट्जरलैंड का शहर दावोस विश्वभर की दिग्गज शख्सियतों के स्वागत सत्कार में लगा हुआ है.

मेडिकल टूरिज्म और स्कीइंग के लिए मशहूर दावोस 48 वीं बार इस सम्मेलन का आयोजन कर रहा है. दुनिया भर के बड़े-बड़े नेता, इन्वेस्टर्स और बिजनेस लीडर्स का केन्द्र बने दावोस शहर की दिवारें भारतीय कंपनियों के विज्ञापनों से पटी पड़ीं हैं.

Davos-1

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी एक बड़े प्रतिनिधिमंडल के साथ इस समारोह में शिरकत कर रहे हैं. ऐसे में शहर की ऊंची-ऊंची इमारतों, बसों और होटलों की दीवारें पर भारतीय कंपनियों के विज्ञापन दिख रहे हैं.

Davos-2

भारत सरकार ने दावोस में अपना लॉन्ज लगाया है, साथ ही आंध्र प्रदेश और महाराष्ट्र की राज्य सरकारों ने भी यहां केंद्र बनाए हुए हैं. भारतीय कंपनियों ने भी अपने-अपने सेंटर यहां लगाए हैं.

Davos-5

संकरी सड़कों वाले इस शहर में हुई बर्फबारी के कारण यह और भी खूबशूरत दिख रहा है. ऐसे में यहां चाय और पकौड़े की मांग सबसे ज्यादा बनी हुई है. साथ ही वड़ा-पाव और डोसा भी लोगों के बीच काफी पसंद किए जा रहे हैं.

Davos-4

स्कीइंग और मेडिकल टूरिस्टों के लिए मशहूर यह शहर 1971 से हर साल इस सम्मेलन का आयोजन करता है. इस बार भी शहर भर में काले कोट पहने अधिकारी देखे जा सकते हैं. इस कारण से शहर में सुरक्षा कर्मियों की संख्या भी बढ़ा दी गई है. पांच दिन के इस वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में दुनिया भर के करीब 3,000 नेता शामिल हुए हैं और लगभग 2000 से ज्यादा पत्रकार भी यहां जुटे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi