S M L

विनी मंडेला को क्यों कहा गया साउथ अफ्रीका की 'मदर ऑफ द नेशन'

विनी मंडेला को नेल्सन मंडेला के रंगभेद के खिलाफ आंदोलन की साथी के अलावा और भी बहुत सारी बातों के लिए याद किया जाएगा

Tulika Kushwaha Tulika Kushwaha Updated On: Apr 03, 2018 10:30 AM IST

0
विनी मंडेला को क्यों कहा गया साउथ अफ्रीका की 'मदर ऑफ द नेशन'

दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद विरोधी आंदोलन के प्रमुख नेता और पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला की पूर्व पत्नी विनी मंडेला का सोमवार को 81 साल की उम्र में निधन हो गया.

उनके प्रवक्ता विक्टर डलामिनी की ओर से जारी बयान में बताया गया कि लंबे समय से बीमार चल रहीं विनी ने जोहान्सबर्ग के अस्पताल नेटकेयर मिलपार्क हॉस्पिटल में दम तोड़ा.

डलामिनी की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘वह लंबे समय से बीमार थीं. साल की शुरुआत से उनका अस्पताल आना-जाना लगा हुआ था. सोमवार दोपहर को उन्होंने आखिरी सांस ली. इस दौरान उनके परिवार के लोग एवं प्रियजन वहां मौजूद थे.’

विनी मंडेला को नेल्सन मंडेला के रंगभेद के खिलाफ आंदोलन की साथी के अलावा और भी बहुत सारी बातों के लिए याद किया जाएगा. श्वेत-अल्पसंख्यक शासन को खत्म करने की लड़ाई में उनकी भूमिका काफी अहम थी हालांकि इतिहास में उनका नाम विवाद से भी जुड़ा है.

आइए, जानते हैं कौन थीं विनी मंडेला और उन्हें किस रूप में याद किया जाएगा-

- विनी मंडेला का पूरा नाम नोमज़ामो विनीफ्रेड मेडिकिजेला था. उनका जन्म 26 सितंबर, 1936 को ट्रांस्की (अब ईस्टर्न केप) के गांव बिज़ाना में हुआ था. उनके पिता हिस्ट्री टीचर थे.

-वो 1953 में सोशल वर्क में आगे की पढ़ाई करने के लिए जोहन्सबर्ग चली आईं. वो यहीं नेल्सन मंडेला से मिली थीं.

- उन्होंने 1958 में नेल्सन मंडेला से शादी कर ली. लेकिन शादी के तुरंत बाद नेल्सन अंडरग्राउंड हो गए. विनी ने अपनी शादीशुदा जिंदगी का अधिकतर हिस्सा अकेले ही गुजारा. ये नेल्सन मंडेला की दूसरी शादी थी. उनकी शादी 1996 तक चली. उनकी प्रेम कहानी मॉर्डन एज की सबसे चर्चित कहानियों में से एक है.

- विनी मंडेला ने रंगभेद के खिलाफ नेल्सन मंडेला के साथ 38 सालों तक संघर्ष किया, इनमें से 27 साल नेल्सन जेल में थे.

- रंगभेद के खिलाफ आंदोलन में विनी नेल्सन मंडेला के इतर एक बड़ा चेहरा बनकर उभरीं. उस दौर के श्वेत-संप्रुभता और नस्लीय अलगाव के सिस्टम के खिलाफ आवाज उठाने वाली विनी मंडेला प्रतिष्ठित हो गईं. नेल्सन के साथ और उनके बगैर रहते हुए भी विनी ने अपने बलबूते अपनी छवि एक सख्त, ग्लैमरस और मुखर अश्वेत कार्यकर्ता के तौर पर बनाई.

WINNIE MANDELA TAKES OATH AT THE TRC HEARING

- नेल्सन मंडेला के जेल में रहने के दौरान उन्होंने अपना अभियान जारी रखा. आतंकवाद अधिनियम, 1967 की धारा 6 के अंतर्गत उन्हें भी 1967 में जेल में डाल दिया गया.

- विनी मंडेला को खास तौर पर सोवेतो के उदय के अभियान के लिए याद किया जाता है.

- 1976 में सोवेतो में छात्रों के आंदोलन में उन्होंने मुख्य भूमिका निभाई थी. सरकार ने सभी अश्वेत स्कूलों में अफ्रीकन और इंग्लिश भाषा के इस्तेमाल का आदेश थोप दिया, तो हजारों अश्वेत छात्र सड़कों पर उतर आए. विनी मंडेला ने इस आंदोलन में अपना योगदान दिया.

- साउथ अफ्रीका में उन्हें 'मामू वेतु' यानी 'मदर ऑफ नेशन' कहा गया. लोग उनका काफी सम्मान करते थे.

- लेकिन विनी मंडेला के बाद के साल काफी विवादित रहे. उन पर 1991 में एक 14 साल के जासूस स्टॉम्पी सेईपेई के अपहरण और हत्या का दोषी पाया गया और उन्हें 6 साल की जेल की सजा सुनाई गई. लेकिन उन्होंने हमेशा इससे इनकार किया. बाद में उनकी सजा को जुर्माने तक सीमित कर दिया गया.

1993 में उन्हें अफ्रीकन नेशनल कांग्रेस वुमेन्स लीग का अध्यक्ष चुना गया.

- 1990 में जब नेल्सन मंडेला आखिरकार जेल से बाहर आए तब दुनिया ने उन्हें विनी के साथ हाथों में हाथ डाले देखा. हालांकि महज दो साल बाद ही दोनों अलग हो गए. एक यंग बॉडीगार्ड के साथ विनी के प्रेम संबंधों के खुलासे के बाद 1996 में उनका तलाक हो गया. नेल्सन मंडेला ने कहा था कि वो जिस विनी को जानते थे, जो रंगभेद के खिलाफ लड़ रही थीं, वो बदल चुकी थीं. वो बेवफा और कठोर हो चुकी थीं. तलाक के बाद भी विनी मंडेला ने ये सरनेम बनाए रखा.

Winnie Madikizela-Mandela listens to the testimony of a witness during a special public hearing of ..

- वो 1994 में मिनिस्टर ऑफ आर्ट एंड कल्चर भी बनीं लेकिन अवज्ञा के मामलों के चलते राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला ने खुद उन्हें पद से हटा दिया.

- 1999 में वो फिर संसद में लौटीं लेकिन और भी कानूनी पचड़ों के साथ. 2003 में उन्हें धोखाधड़ी और चोरी का दोषी पाया गया. लेकिन केस खत्म हो गया.

- उन्होंने 491 Days: Prisoner Number 1323/69 और Part of my soul went with him जैसी किताबें लिखी हैं.

विनी मंडेला भले ही बाद के सालों में कितनी भी विवादित रही हों, लेकिन उन्होंने रंगभेद के खिलाफ हुए आंदोलनों को अपनी आवाज दी और नेल्सन मंडेला के जेल के सालों को यूं ही बर्बाद नहीं होने दिया.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi