S M L

जारी रहेगा असांजे के खिलाफ ब्रिटेन में गिरफ्तारी वारंट

जूलियन असांजे के वकीलों ने एक ब्रिटिश अदालत का रुख कर अपने मुवक्किल के खिलाफ जारी गिरफ्तारी वारेंट वापस लेने की गुहार लगाई थी

FP Staff Updated On: Feb 06, 2018 09:01 PM IST

0
जारी रहेगा असांजे के खिलाफ ब्रिटेन में गिरफ्तारी वारंट

ब्रिटेन की अदालत ने कहा है कि 2012 में मशहूर वेबसाइट विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे के खिलाफ जारी गिरफ्तारी का वारंट अभी भी बरकरार है.

वेस्टमिंस्टर की मजिस्ट्रेट अदालत की मुख्य मजिस्ट्रेट एम्मा अर्बुथनॉट ने तर्क दिया कि वह असांजे के वकीलों के ‘इस बात से सहमत नहीं है कि वारंट वापस ले लिया जाना चाहिए.’

इससे पहले सनसनीखेज खुलासे करने के लिए मशहूर वेबसाइट विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे के वकीलों ने एक ब्रिटिश अदालत का रुख कर अपने मुवक्किल के खिलाफ जारी गिरफ्तारी वारेंट वापस लेने की गुहार लगाई थी.

अगर यह गिरफ्तारी वारेंट वापस ले लिया जाता तो असांजे करीब पांच साल बाद इक्वेडोर के दूतावास से खुलकर बाहर निकल सकते थे जो अब संभव नहीं दिख रहा है.

असांजे के वकीलों ने कहा अदालत में अपनी दलील में कहा था कि इस वारेंट का कोई मकसद नहीं है, क्योंकि कथित यौन अपराधों के मामले में पूछताछ के लिए अब उनके मुवक्किल की जरूरत नहीं है.

स्वीडन के वकीलों ने पिछले साल मुकदमा बंद करते हुए कहा था कि असांजे को निकट भविष्य में स्वीडन लाए जाने की कोई संभावना नहीं है.

लेकिन अभी अगर असांजे लंदन स्थित इक्वेडोर के दूतावास से बाहर निकलते हैं तो उनकी गिरफ्तारी हो सकती है. वह 2012 से ही इक्वेडोर के दूतावास में रह रहे हैं. उन पर आरोप है कि स्वीडन प्रत्यर्पित होने से बचने के लिए उन्होंने जमानत की शर्तें तोड़ीं और दूतावास में शरण ली.

इक्वेडोर ने इस महीने कहा कि उसने ऑस्ट्रेलिया में पैदा हुए असांजे को अपनी नागरिकता दे दी है.

असांजे को डर है कि लीक हुए गोपनीय अमेरिकी दस्तावेजों को विकीलीक्स की ओर से प्रकाशित करने के मामले में अमेरिका गुप्त तरीके से उन पर कार्रवाई कर सकता है और अमेरिकी अधिकारी उनके प्रत्यर्पण की मांग कर सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi