S M L

ड्रोन हमले में बाल-बाल बचे वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो

मादुरो ने इस हमले के लिए पड़ोसी देश कोलंबिया और अमेरिका को जिम्मेदार ठहराया. वहीं उनके कई अधिकारियों ने इस हमले के लिए देश के ही विपक्षी खेमे को जिम्मेदार ठहराया है

Updated On: Aug 05, 2018 12:24 PM IST

FP Staff

0
ड्रोन हमले में बाल-बाल बचे वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो

वेनेजुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो पर शुक्रवार को एक कार्यक्रम के दौरान  हमला हुआ. इस जानलेवा हमले में वो बाल-बाल बच गए. मादुरो वेनेजुएला की राजधानी कराकस में नेशनल गार्ड के 81 वर्ष पूरे होने पर आयोजित समारोह में भाषण दे रहे थे तभी उनपर यह हमला किया गया.

भाषण के बीच में ही उनके पास कुछ विस्फोटक आकर गिरे. इससे वहां अफरा-तफरी का माहौल हो गया और राष्ट्रपति को अपना भाषण बीच में ही रोकना पड़ा. राष्ट्रपति मादुरो की सुरक्षा में तैनात सैनिकों ने उन्हें अपने घेरे में लेकर सुरक्षित स्थान तक पहुंचाया.

सरकारी आंकड़ों के अनुसार इस घटना में 7 सैनिक घायल हुए हैं. जबकि कुछ हमलावरों को भी गिरफ्तार किए जाने की बात कही जा रही है.

जांच में यह बात सामने आई कि हमले का विस्फोटक सामग्री ड्रोन जैसी किसी चीज में लाई गई थी. हालांकि टेलीविजन पर ऐसा कोई ड्रोन नजर नहीं आया.

भाषण के दौरान ड्रोन से किया गया विस्फोट 

राष्ट्रपति ने घटना के बाद सरकारी चैनल पर कहा, 'यह हमला मेरी हत्या करने के लिए किया गया था. एक उड़ती हुई चीज आकर मेरे सामने गिरी और उसमें विस्फोट हो गया.'

मादुरो ने इस हमले के लिए पड़ोसी देश कोलंबिया और अमेरिका के अज्ञात 'वित्त दाताओं' को जिम्मेदार ठहराया. वहीं उनके कई अधिकारियों ने हमले के लिए वेनेजुएला के विपक्षी खेमे को जिम्मेदार ठहराया है.

इस आरोप-प्रत्यारोप के बीच एक संदिग्ध विद्रोही गुट ने राष्ट्रपति निकोलस मादुरो की 'हत्या की साजिश' रचने की जिम्मेदारी ली है. बताया जा रहा है कि इस समूह में वेनेजुएला के नागरिक और सेना के लोग शामिल हैं.

हमले में शामिल समूह ने सोशल मीडिया पर जारी एक बयान में कहा, 'ऐसी सरकार को सत्ता में रखना सेना के सम्मान के खिलाफ है, जो ना केवल संविधान को भूल गई है बल्कि जिसने सरकारी दफ्तरों को अमीर बनने का एक जरिया बना दिया है.'

(भाषा से इनपुट)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi