S M L

कैलिफोर्निया Beach विनोद खोसला की निजी संपत्ति नहीं: US सुप्रीम कोर्ट

विनोद खोसला ने अदालत में अपील की थी कि वो विशेष समुद्र तट को अपनी निजी संपत्ति के रूप में रखना चाहते हैं

Updated On: Oct 02, 2018 06:15 PM IST

FP Staff

0
कैलिफोर्निया Beach विनोद खोसला की निजी संपत्ति नहीं: US सुप्रीम कोर्ट

अमेरिकी-भारतीय अरबपति विनोद खोसला को अदालत से झटका लगा है. अमेरिका के सुप्रीम कोर्ट ने कैलिफोर्निया की तटरेखा (कोस्टलाइन) की कानूनी लड़ाई में उनके विरोधियों के हक में फैसला दिया है. विनोद खोसला ने अदालत में अपील की थी कि वो विशेष समुद्र तट को अपनी निजी संपत्ति के रूप में रखना चाहते हैं.

हाईकोर्ट के इनकार के बाद स्टेट ऐपलेट डिसीज़न का निर्णय बरकरार है जिसमें सनमाइक्रो सिस्टम्स के सह-संस्थापक विनोद खोसला को कैलिफोर्निया कोस्टल कमिशन से परमिट लेने के लिए अर्जी दाखिल करने को कहा गया जिससे सैन माटियो काउंटी के मार्टिन्स बीच पर आम लोगों की आवाजाही रोकी जा सके.

सुप्रीम कोर्ट दाखिल होने वाली ढेरों याचिकाओं में से ज्यादातर को खारिज कर देता है, जिसमें 9 में से कम से कम 4 जजों, वर्तमान में एक सीट खाली है, के किसी भी विशेष मामले को सुनने के लिए सहमत होना आवश्यक है.

अदालत में यदि 4 जजों ने खोसला की अपील के पक्ष में मतदान किया होता तो इससे कैलिफोर्निया में तटीय प्रबंधन के लंबे समय से स्थापित सिद्धांत पर सवाल उठता.

कौन हैं विनोद खोसला?

63 वर्षीय विनोद खोसला दिल्ली के रहने वाले हैं. उनके पिता आर्मी में थे. विनोद खोसला ने दिल्ली से अपनी पढ़ाई-लिखाई की है. आईआईटी दिल्ली से डिग्री हासिल करने वाले खोसला ने कार्नेज मेलन विश्वविद्यालय से पोस्ट ग्रेजुएशन (पीजी) किया. बाद में उन्होंने अमेरिका के स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय से एमबीए किया. वो दुनिया भर में प्रतिष्ठित कंपनी सनमाइक्रो सिस्टम के सह-संस्थापक हैं.

विनोद खोसला ने 1980 के दशक में जब सनमाइक्रो सिस्टम की स्‍थापना की तो उनकी उम्र महज 25 साल थी. 1986 में विनोद इस कंपनी को अलविदा कहकर फाइनेंशियल मार्केट के महारथी कंपनी क्‍लीनर परकिंग्‍स कॉफील्‍ड एंड बायर्स के हिस्‍सेदार बन गए. 2004 में उन्‍होंने अपनी कंपनी खोसला वेंचर्स की नींव रखी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi