S M L

किम के साथ मुलाकात के बाद बोले ट्रंप- 'हम इतिहास का नया अध्याय लिखने वाले हैं'

उत्तर कोरियाई नेता के बगल में बैठकर ट्रंप ने कहा कि आगे हमारे रिश्ते बेहद शानदार होंगे. वास्तव में बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं

Updated On: Jun 12, 2018 05:40 PM IST

FP Staff

0
किम के साथ मुलाकात के बाद बोले ट्रंप- 'हम इतिहास का नया अध्याय लिखने वाले हैं'

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच सिंगापुर में ऐतिहासिक शिखर वार्ता हुई. दोनों नेताओं के बीच करीब 48 मिनट की इस बैठक का मकसद दोनों देशों के बीच संबंधों को सामान्य बनाना और कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण था.

ट्रंप और किम के बीच यह मुलाकात सिंगापुर के लोकप्रिय जगह सेंटोसा के एक होटल में हुई. दोनों नेताओं ने शिखर वार्ता की शुरुआत होटल में मीडियाकर्मियों के सामने गर्मजोशी से हाथ मिलाकर की.

ट्रंप-किम के बीच हुई ऐतिहासिक मुलाकात के बाद ट्रंप ने बैठक को 'बहुत-बहुत अच्छा' बताया. ट्रंप ने इस ऐतिहासिक वार्ता के बाद कहा 'हमारे बीच बहुत अच्छे संबंध है.'

राष्ट्रपति ने उम्मीद जताई थी कि यह शिखर वार्ता ‘जबरदस्त सफलता’’ वाली होगी. उत्तर कोरियाई नेता के बगल में बैठकर ट्रंप ने कहा, ‘आगे हमारे रिश्ते बेहद शानदार होंगे. वास्तव में बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं, हम बेहद अच्छी चर्चा करने वाले हैं और हमारे रिश्ते शानदार होंगे, इसमें मुझे कोई संदेह नहीं है.’

उत्तर कोरियाई तानाशाह ने कहा कि सिंगापुर में मंगलवार को हुई बैठक की राह में कई ‘रोड़े’ थे. उन्होंने अनुवादक के जरिए संवाददाताओं को बताया, ‘हमने उन बाधाओं को पार किया और आज हम यहां हैं.’ मौजूदा अमेरिकी राष्ट्रपति और एक उत्तर कोरियाई नेता के बीच हो रही यह पहली शिखर वार्ता ट्रंप और किम के बीच कभी बेहद तल्ख रहे रिश्तों को भी बदलने वाली साबित होगी.

किम के साथ बैठक के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हम एक नए इतिहास के लिए तैयार हैं. हम इतिहास का नया अध्याय लिखेंगे. अतीत कभी भी भविष्य को परिभाषित नहीं करता है.

ट्रंप ने किम से मुलाकात के दिन को एक महान दिन और विश्व इतिहास के सबसे महान क्षणों में से एक कहा.

ट्रंप ने कहा कि हमने आज बहुत ही व्यापक मसौदे पर दस्तखत किए हैं और मुझे लगता है कि उत्तर कोरिया पहुंचते ही किम इस पर काम करना शुरू कर देंगे.

ट्रंप ने कहा कि किम ने मुझे कहा कि हम कभी भी इतना आगे नहीं बढ़े थे. उन्होंने कहा कि उन्हें पहले राष्ट्रपतियों पर कभी विश्वास नहीं रहा कि चीजें सही हो सकती हैं. वो इस प्रक्रिया को मेरे साथ और आगे तक बढ़ाना चाहते हैं.

ट्रंप ने कहा कि मैं किम जोंग उन को सही समय पर व्हाइट हाउस बुलाऊंगा और उन्होंने यह निमंत्रण स्वीकार कर लिया है.

ट्रंप ने कहा कि किम जोंग उन के पास अपने देश के बेहतर भविष्य के लिए यह सुनहरा मौका है. युद्ध कोई भी कर सकता है लेकिन सबसे साहसी व्यक्ति ही शांति स्थापित कर सकता है.

परमाणु निरस्त्रीकरण और उत्तर कोरिया पर से प्रतिबंध हटाने के बारे में ट्रंप ने कहा कि जब हम इस बात को लेकर सुनिश्चित हो जाएंगे कि न्यूक्लियर मिसाइल नष्ट कर दिए गए हैं तो प्रतिबंध अपने-आप खत्म हो जाएंगे.

ट्रंप ने कहा कि अमेरिका आज की वार्ता के बाद कोरियाई प्रायद्वीप में सैन्य युद्धाभ्यास बंद कर देगा.

ट्रंप ने कहा कि यह बैठक अमेरिका और उत्तर कोरिया दोनों के अच्छी रही. सिर्फ डोनाल्ड ट्रंप से नफरत करने वाला व्यक्ति ही यह कह सकता है कि मैंने सिर्फ अपने वादे को पूरा करने के लिए यह बैठक की. हां यह सही है कि किम से मिलने का एक बड़ा वादा था लेकिन यह हमारे लिए अच्छा रहा.

ऐतिहासिक शिखर वार्ता से पहले अमेरिका ने ‘पूर्ण’ परमाणु निरस्त्रीकरण के बदले उत्तर कोरिया को ‘विशिष्ट’ सुरक्षा गारंटी की पेशकश की थी. अमेरिका ने इस बात पर जोर दिया है कि उसे कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण से कम कुछ भी मंजूर नहीं है. उत्तर कोरिया की आधिकारिक संवाद समिति ने रविवार को कहा था कि किम वार्ता के दौरान ‘परमाणु निरस्त्रीकरण’ और ‘स्थाई शांति’ के लिए बातचीत को तैयार हैं.

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के साथ हो रही ऐतिहासिक शिखर वार्ता के आलोचकों को ‘बैरी और पराजित’ करार दिया और कहा कि ‘हम ठीक हो जाएंगे.’उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ वार्ता से कुछ घंटों पहले ट्रंप ने ट्विटर के जरिए इसके आलोचकों पर जमकर निशाना साधा था.

सिंगापुर में वार्ता की कवरेज के लिए करीब ढाई हजार पत्रकार मौजूद थे और दुनिया के तमाम देशों की निगाह इस ऐतिहासिक शिखर वार्ता पर थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi