S M L

पाकिस्तान को अमेरिका से बड़ा झटका: 1628 करोड़ की मदद रोकी

आतंकवाद को सहयोग देने के लिए डोनाल्ड ट्रंप ने नए साल पर ट्वीट कर के पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई है

Updated On: Jan 02, 2018 10:48 AM IST

FP Staff

0
पाकिस्तान को अमेरिका से बड़ा झटका: 1628 करोड़ की मदद रोकी

अमेरिका ने पाकिस्तान को एक और बड़ा झटका दिया है. अमेरिका ने पाकिस्तान को दी जाने वाली 255 मिलियन डॉलर यानी 1628 करोड़ रुपयों की सैन्य सहायता पर रोक लगा दी है. व्हाइट हाउस ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि ऐसी सहायता इस बात पर निर्भर करेगी कि पाकिस्तान अपनी सरजमीं पर आतंकवाद का किस तरह जवाब देता है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पाकिस्तान पर अमेरिका को ‘झूठ और धोखे’ के सिवाए कुछ ना देने और पिछले 15 वर्षों में 33 अरब डॉलर की सहायता देने के बदले में आतंकवादियों को पनाहगाह देने का आरोप लगाया. इसके बाद ही अमेरिका ने इस बात की पुष्टि की.

एक वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘अमेरिका की इस समय पाकिस्तान के लिए वित्त वर्ष 2016 में 25 करोड़ 50 लाख डॉलर की राशि खर्च करने की योजना नहीं है.’ उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रपति ने यह स्पष्ट कर दिया कि अमेरिका यह उम्मीद करता है कि पाकिस्तान अपनी सरजमीं पर आतंकवादियों और उग्रवादियों के खिलाफ ठोस कदम उठाए.' अधिकारी ने कहा कि अमेरिकी प्रशासन पाकिस्तान के सहयोग के स्तर की समीक्षा करता रहेगा.

ट्रंप के बयान के कुछ घंटों बाद पाकिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने पलटवार करते हुए आरोप लगाया कि उसे आतंकवाद के खिलाफ अमेरिका के युद्ध के समर्थन में उसके सभी कदमों के बदले ‘‘अपशब्द और अविश्वास’’ के सिवाए कुछ नहीं मिला.

पाकिस्तान के रक्षा मंत्रालय ने एक ट्वीट कर कहा, ‘पाकिस्तान ने आतंकवाद निरोधी सहयोगी के तौर पर अमेरिका को जमीन और वायु संपर्क, सैन्य अड्डे एवं खुफिया सूचना सहयोग दिया, जिससे पिछले 16 वर्षों में अल-कायदा को खत्म करने में उन्हें मदद मिली लेकिन उन्होंने अपशब्दों और अविश्वास के सिवाए हमें कुछ नहीं दिया. उन्होंने सीमा पार आतंकवादियों की पनाहगाहों की अनदेखी की जिन्होंने पाकिस्तानियों की हत्या की.’ पाकिस्तान पर ट्रंप के कड़े रुख का कई अमेरिकी सांसदों ने समर्थन किया है.

1 जनवरी को नए साल के पहले दिन अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अपने ट्वीट में पाकिस्तान को आतंकवाद को सहयोग देने के लिए जमकर खरी-खोटी सुनाई थी.

ट्रंप ने कहा कि 'अमेरिका पाकिस्तान को बीते 15 वर्षों में 33 अरब डॉलर से अधिक की आर्थिक मदद दे चुका है. बदले में पाकिस्तान झूठ बोलकर हमें धोखा देता आया है. हमारे नेताओं को बेवकूफ बनाता आ रहा है. हमारे सैनिक अफगानिस्तान में आतंकवाद का खात्मा करने में जुटे हैं लेकिन वो उन्हें अपने यहां सुरक्षित पनाह देता आया है.'

अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई ने राष्ट्रपति ट्रंप के इस बयान का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि आतंकवाद को लेकर पिछले 15 वर्षों से पाकिस्तान की दोहरी नीति से अफगानिस्तान भी खासा प्रभावित रहा है

इस बीच, बलूच नेताओं ने भी अमेरिकी राष्ट्रपति के पाकिस्तान के खिलाफ इस कदम का स्वागत किया है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि उम्मीद है कि ये महज एक दिखावा न हो.

आपको बता दें कि बलोच नेता बलूचिस्तान प्रांत में पाकिस्तान की दमनकारी नीतियों का लंबे समय से विरोध करते रहे हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi