Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

भारत ना आने का विजय माल्या ने खोज लिया एक और बहाना!

लंदन के कोर्ट में माल्या ने दलील दी है कि भारत में कैदियों के साथ बहुत बुरा सलूक किया जाता है

FP Staff Updated On: Dec 15, 2017 09:33 AM IST

0
भारत ना आने का विजय माल्या ने खोज लिया एक और बहाना!

भारत की सरकार विजय माल्या को वापस लाने का भरसक प्रयास कर रही है. लेकिन भारतीय बैंकों का करीब 9000 करोड़ रुपए लेकर फरार होने वाले माल्या भी कम नहीं हैं. माल्या ने प्रत्यर्पण से बचने के लिए एक दिलचस्प बहाना खोज लिया है.

लंदन में प्रत्यर्पण मामले की चल रही सुनवाई के दौरान विजय माल्या ने अपनी दलील देते हुए एक नया मुद्दा उठाया. उन्होंने कहा है, 'पूर्व ब्रिटिश सैनिकों के ग्रुप चेन्नई सिक्स के एक सैनिक को जबरन मानसिक रोगियों की दवा खाने को मजबूर किया गया था. '

वॉन्टेड हैं माल्या

61 साल के माल्या भारत में धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग मामले में वॉन्टेड हैं. किंगफिशर एयरलाइंस से जुड़े मामले में उन्हें 1.4 अरब डॉलर भारतीय बैंकों को लौटाना है.

फोर्स इंडिया फॉर्मूला वन टीम के को-ऑनर विजय माल्या मार्च 2016 से ही ब्रिटेन में हैं. माल्या ने कहा कि यह केस राजनीति से प्रेरित है. वह कई मुद्दों पर अपने प्रत्यर्पण का केस लड़ रहे हैं. जिसमें ब्रिटिश ह्यूमन लॉ के मुकाबले भारतीय जेलों की बुरी व्यवस्था भी एक है.

माल्या के वकील ने जेल अवस्था विशेषज्ञ एलन मिशेल से भी पूछताछ की. चार साल पहले हथियार स्मलिंग केस में भारतीय जेल में बंद एक सैनिक से दो दिन पहले एलन ने बातचीत की थी. इन सैनिकों को कई सफल अपील के बाद चेन्नई में रिहा किया गया और पिछले हफ्ते ही उनका ब्रिटेन आना हुआ है.

क्या है सैनिक का मामला?

लंदन के वेस्टमिंस्टर कोर्ट में एलन मिशेल ने कहा कि A (सैनिक के नाम का खुलासा नहीं किया गया) नाम के सैनिक को जेल के 15 गार्ड ने पकड़ कर एक मनोचिकित्सक के पास सिर्फ इसलिए ले गए क्योंकि वो जेल में बहुत ज्यादा चल रहे थे.

उन्होंने कहा कि मनोचिकित्सा अस्पताल में उन्हें बांधा गया, मारा गया, जबरदस्ती इंजेक्शन लगाए गए. सैनिक को जबरदस्ती मानसिक रोग की दवाएं दी गईं. हालांकि सैनिक ने किसी तरह वो गोलियां निगलने से बच गया. माल्या की इस दलील के बाद उनके प्रत्यर्पण की संभावना कम है.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi