S M L

म्यांमार की तारीफ करने पर ट्विटर CEO ने आलोचनाओं के बाद दी सफाई

ट्विटर के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर जैक डोरसे ने म्यांमार को लेकर दिए गए अपने बयान पर सफाई दी है

Updated On: Dec 12, 2018 02:13 PM IST

FP Staff

0
म्यांमार की तारीफ करने पर ट्विटर CEO ने आलोचनाओं के बाद दी सफाई

ट्विटर के चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर जैक डोरसे ने म्यांमार को लेकर दिए गए अपने बयान पर सफाई दी है. दरअसल जो देश देश मानवाधिकार उल्लंघन का आरोपी है. उसे टूरिज्म डेस्टिनेशन के तौर पर प्रमोट करने के कारण जैक विवादों में घिर गए थे.

अब अपनी सफाई में डोरसे ने कहा कि म्यांमार में हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन से मैं अवगत हूं. मैंने म्यांमार के बारे में जो कहा वो प्रचार करने के तौर पर नहीं कहा था. मैंने मुद्दे को नहीं उठाया इसका ये मतलब नहीं है कि मैं उसे खत्म करना चाहता हूं. लेकिन मैं ये मानता हूं कि मुझे इस बारे में ज्यादा नहीं पता था, मुझे अधिक जानना चाहिए था. डोरसे ने कहा कि वो लंबे समय से मेडिटेशन करते आ रहे हैं और बौध बहुल म्यांमार का दौरा करना चाहते थे, जहां विपासना की प्रेक्टिस ओरिजनल फॉर्म की जाती है.

इससे पहले ट्वीट करते हुए जैक ने लिखा था कि 'म्यांमार बहुत सुंदर देश है. लोग खुशी से भरे हुए हैं और भोजन अद्भुत है. मैंने यांगून, मंडले और बागान के शहरों का दौरा किया. हमने देश भर के कई मठों का भी दौरा किया.' जब कि म्यांमार में हालात बिलकुल उलट हैं. एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा था कि मैंने मेडिटेशन रिट्रीट के लिए नवंबर में म्यांमार का दौर किया था.

उनके इस ट्वीट पर दुनियाभर से लोगों ने विरोध जताया. म्यांमार में रोहिंग्या मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचारों के नजरअंदाज कर जैक के इस ट्वीट को लेकर ट्वीटराती ने उनपर जमकर निशाना साधा. 2017 में, म्यांमार की सेना ने रोहिंग्या मुस्लिमों पर कार्रवाई की थी. इसमें हजारों लोगों की हत्या कर दी गई थी. सेना की इस कार्रवाई पर मानवाधिकार संस्थाओं ने कहा था कि सेना ने भूमि जला दी है और मनमानी हत्याओं और बलात्कार किए हैं.

ये पहली बार नहीं है जब ट्विटर के सीईओ विवादों में घिरे हों. इससे पहले जैक डोरसे पर हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाने का भी आरोप लगा था. जैक ने एक फोटो ट्वीट की थी, जिसे ब्राह्मण विरोधी पोस्ट करार दिया गया था. जैक ने एक तस्वीर पोस्ट की थी जिसमें वो अपने हाथ में पोस्टर पकड़े हुए नजर आ रहे थे. पोस्ट में लिखा था 'ब्राह्मण पितृसत्ता का नाश हो.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA
Firstpost Hindi