S M L

जानिए किन देशों में चल सकता है भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस

विदेश जाने वाले ज्यादातर लोगों की हसरत एक बार वहां की सड़कों पर फर्राटे से कार दौड़ाने की भी होती है. अब कई देश टूरिस्टों बढ़ावा देने के लिए भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस पर गाड़ी चलाने की अनुमति दे रहे हैं

Updated On: Oct 08, 2018 03:24 PM IST

FP Staff

0
जानिए किन देशों में चल सकता है भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस

विदेश घूमने जाने वाले बहुत से लोगों के लिए वहां पर गाड़ी चलना भी उनके टू डू लिस्ट का एक हिस्सा होता है. बहुत से लोग चाहते हैं कि विदेश की सड़कों पर गाड़ी दौड़ाने का मजा लें. पर ड्राइविंग लाइसेंस के कारण ये हसरत पूरी नहीं हो पाती. लेकिन कई देश हैं जो भारत की ड्राइविंग लाइसेंस पर ही टूरिस्टों को अपने यहां गाड़ी चलाने की इजाजत देते हैं. ऐसे में अंतरराष्ट्रीय लाइसेंस का पंगा भी खत्म और लोग भी खुश.

ऑस्ट्रेलिया ने भी अब भारतीय टूरिस्टों को ज्यादा से ज्यादा आकर्षित करने के लिए अपने यहां गाड़ी चलाने की इजाजत दे दी है. टूरिज्म ऑस्ट्रेलिया के कंट्री मैनेजर (भारत और खाड़ी देश) निशांत काशिकर का कहना है- 'भारत और ऑस्ट्रलिया के ट्रैफिक नियम बहुत हद तक एक ही हैं. साथ ही दोनों ही देशों में सड़क की बाईं तरफ गाड़ी चलाने का प्रावधान है. और दोनों ही देशों में राइट हैंड ड्राइव गाड़ियां चलती हैं. इसलिए भारतीयों को ऑस्ट्रेलिया में छुट्टियां मनाने के साथ साथ ड्राइव करने में कोई परेशानी नहीं है. उत्तरी क्षेत्र को छोड़कर ऑस्ट्रेलिया के ज्यादातर राज्यों और क्षेत्रों में लोग भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस के साथ ड्राइव कर सकते हैं.'

विदेशी ड्राइवरों के पास अपने देश का लाइसेंस होना चाहिए जो इंग्लिश में लिखा हो या फिर विदेशी ड्राइवर लाइसेंस हो जो भले इंग्लिश में न लिखा हो पर उसका इंग्लिश अनुवाद साथ हो.

car

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक अमेरिका के ज्यादातर राज्य भारतीयों को भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस के साथ एक साल तक अपने यहां गाड़ी ड्राइव करने की इजाजत देते हैं. लाइसेंस इंग्लिश में होना चाहिए. इसके साथ ही आई-94 फॉर्म की कॉपी भी साथ में होनी चाहिए जिसमें आपके अमेरिका आने की तारीख लिखी हो.

फ्रांस भी भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस को स्वीकार करता है, बशर्ते आपके पास उसका फ्रेंच ट्रांसलेशन भी साथ हो. यहां भी एक साल के लिए ये सुविधा दी जाती है. भारतीय पासपोर्ट के साथ इंग्लैंड, स्कॉटलैंड और वेल्स में लोग गाड़ियां चला सकते हैं. वहीं नॉर्वे भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस के साथ अपने देश में घुसने के तीन महीने तक गाड़ी चलाने की अनुमति देता है.

स्वीट्जरलैंड, न्यूजीलैंड में एक साल के लिए भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस मान्य होता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi