विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

साइलेंस ब्रेकर कैंपेन बना टाइम का 'पर्सन ऑफ द ईयर'

अमेरिकी अभिनेत्री ऐलिसा मिलानो ने यौन उत्पीड़पन के खिलाफ #MeToo का इस्तेमाल किया था, जो देखते ही देखते दुनियाभर में लोकप्रिय हो गया

FP Staff Updated On: Dec 06, 2017 10:10 PM IST

0
साइलेंस ब्रेकर कैंपेन बना टाइम का 'पर्सन ऑफ द ईयर'

प्रतिष्ठित टाइम मैगजीन ने वर्ष 2017 के पर्सन ऑफ द ईयर का ऐलान कर दिया है. इस बार पर्सन ऑफ द ईयर का अवॉर्ड किसी नेता या फिर बड़े चेहरे को न देकर द साइलेंस ब्रेकर को दिया गया है.

साइलेंस ब्रेकर उन्हें कहा गया है, जिन्होंने यौन शोषण के खिलाफ अपनी चुप्पी तोड़ी और इस बारे में खुल कर बात की. मैगजीन के कवर पेज पर उन महिलाओं की फोटो लगाई गई है जो अपने साथ हुए यौन दुर्व्यवहार या शोषण की कहानी लेकर समाज के सामने आईं. उन्‍होंने इस बात को छुपाने के बजाय अपने ऊपर हुए यौन शोषण के बारे में खुलकर बात की.

दुनियाभर में लोकप्रिय हुआ था #MeToo कैंपेन

हॉलीवुड के निर्माता-निर्देशक हार्वी वाइंस्टाइन और अन्य पुरुषों से जुड़े यौन शोषण का मामला सामने आने के बाद  साइलेंस ब्रेकर कैंपेन की शुरुआत हुई थी. अमेरिकी अभिनेत्री ऐलिसा मिलानो ने इसके खिलाफ #MeToo का इस्तेमाल किया था, जो देखते ही देखते दुनियाभर में लोकप्रिय हो गया.

महिलाएं और यहां तक कि पुरुषों ने भी #MeToo और दूसरे हैशटैग के साथ यौन उत्पीड़न के खिलाफ अपनी चुप्पी तोड़ी और अपना दर्द साझा किया. इस कैंपेन में बॉलीवुड हस्तियों ने भी हिस्सा लिया और यौन उत्पीड़न से जुड़ी अपनी कहनी शेयर की.

'पर्सन ऑफ द इयर' के फाइनलिस्ट में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग भी शामिल थे.

टाइम मैगजीन सौ सालों से पर्सन ऑफ ईयर का ऐलान कर रही है. यह अवॉर्ड उन लोगों को दिया जाता है जिन्‍होंने पूरे साल अच्‍छी या फिर बुरी खबरों के कारण पूरे साल दुनिया के सामने अपनी एक अलग छवि तैयार की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi