S M L

यह चिड़ियाघर दे रहा है शेरनी के साथ खेलने का मौका

यह चिड़ियाघर 14 महीने की शेरनी- फालेस्टाइन के साथ लोगों को खेलने का मौका दे रहा है

Updated On: Feb 14, 2019 03:28 PM IST

FP Staff

0
यह चिड़ियाघर दे रहा है शेरनी के साथ खेलने का मौका

चिड़ियाघर में बच्चों को सबसे ज्यादा मज़ा बंदरों को देखकर आता है. और अगर डर की बात करें तो सबसे ज्यादा डर शेर से लगता है. लिहाजा इन जानवरों के बड़े बड़े पिजरों में कैद रखा जाता है. लेकिन गाजा के युद्धग्रस्त फिलिस्तीनी एनक्लेव के एक चिड़ियाघर ने यह फासला कम करने की कोशिश की है.

यह चिड़ियाघर यहां आने वाले लोगों को 14 महीने की शेरनी 'फालेस्टाइन' के साथ खेलने का मौका दे रहा है. वैसे तो फालेस्टाइन के पंजे उखाड़ कर हटा दिया गया है लेकिन दांत अभी भी हैं.

माना जा रहा है कि 14 महीने की यह शेरनी बाहरी लोगों से मिलने के लिए तैयार है. फालेस्टाइन को दक्षिणी गाजा पट्टी के राफा पार्क में रखा गया है. पार्क के मालिक 53 वर्षीय मोहम्मद जुमा ने कहा, 'मैं शेरनी की आक्रामकता को कम करने की कोशिश कर रहा हूं ताकि यह बाहरी लोगों के साथ अनुकूल हो सके.'

 व्यवसायिक मुनाफे के लिए जानवरों के साथ ऐसा करना आम

एनडीटीवी के अनुसार गाजा में व्यवसायिक मुनाफे के लिए जानवरों के साथ ऐसा करना आम है. यहां कुछ चिड़ियाघर व्यवसाय प्रतिस्पर्धा के लिए ऐसा करते हैं. दो हफ्ते पहले फालेस्टाइन पर काम करने वाले पशु चिकित्सक फैयज अल-हदद ने उसके हाव-बाव और व्यवहार को अच्छे से नोटिस किया, क्योंकि उसे बच्चों सहित स्थानीय निवासियों के पास रहने के लिए अपने पिंजरे से बाहर ले जाया गया था.

उसके पंजों को काट दिया गया है, ताकि वो जल्द बढ़ ना सकें और यहां पहुंचने वाले बच्चे-बड़े सभी उसके साथ खेल सकें. गाजा में जानवरों के लिए कोई स्पेशल हॉस्पिटल नहीं है, इसलिए फालेस्टाइन का ऑपरेशन तमाम सुविधाओं के अभाव में चिड़ियाघर में ही किया गया.

हालांकि हद्दद ने इस बात से इनकार किया है कि यह घटना जानवर के साथ क्रूरता की है. हद्दद ने कहा, 'हम पार्क में आ रहे लोगों की संख्या में वृद्धि के साथ ही बच्चों के चेहरे पर मुस्कुराहट और खुशी लाना चाहते हैं.'

इसके साथ ही हद्दद ने चेतावनी दी कि शेर के पंजे छह महीने के भीतर वापस बढ़ जाते हैं. ऐसे में शेर अपनी आक्रामक प्रवृत्ति को नहीं छोड़ेता. लेकिन पौ प्रोजेक्ट नाम के एनजीओ जो बड़ी बिल्लियों का पुनर्वास करती है, का कहना है कि यह घटना पूरी तरह से अमानवीय है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi