विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

कातालूनीया संकट: स्पेन ने कहा- सभी विकल्प हैं खुले

स्पेन के आर्थिक ऊर्जा केंद्र के तौर पर देखे जाने वाला यह इलाका स्वतंत्रता को लेकर विभाजित है जहां 75 लाख लोगों का भविष्य दांव पर है

Bhasha Updated On: Oct 11, 2017 05:45 PM IST

0
कातालूनीया संकट: स्पेन ने कहा- सभी विकल्प हैं खुले

कातालूनीया की स्वतंत्रता के मुद्दे को लेकर जारी खींचतान के बीच एक आपातकालीन मंत्रिमंडलीय बैठक में स्पेन की सरकार ने मंगलवार को कहा कि 'सभी विकल्पों' पर विचार किया जा रहा है. कातालूनियाई नेताओं ने स्वतंत्रता घोषित करने के लिए बहुमत होने की बात कही थी और कहा था कि उन्होंने इसकी घोषणा फिलहाल रोक रखी है. इस घोषणा के कुछ घंटों बाद मंत्रिमंडल की बैठक हुई थी.

प्रधानमंत्री मारियानो राजोय ने कहा कि इस क्षेत्र की स्वतंत्रता को रोकने के लिए उनके अधिकार में जो भी होगा वह सबकुछ करेंगे. इस विवाद ने स्पेन को कई दशकों के सबसे बड़े सियासी संकट में डाल दिया है.

उन्होंने इस अर्धस्वायत्त क्षेत्र में सीधे शासन को लागू करने की आशंकाओं को खारिज किया. बहुत से लोगों का मानना था कि इससे अशांति फैल सकती थी.

कातालूनीया के राष्ट्रपति कार्ल्स प्यूगडेमोंट ने घोषणा की थी कि इस महीने हुए प्रतिबंधित जनमत संग्रह के बाद उन्होंने 'कातालूनीया को स्वतंत्र राष्ट्र बनाए जाने' के फैसले को स्वीकार कर लिया है. इस ऐलान के बाद राजोय ने आपातकालीन बैठक बुलाई थी.

फिलहाल कातालूनीया की स्वतंत्रता को स्थगित रखा जाएगा

संसद में दिए गए भाषण ने बहुत से लोगों को असमंजस में डाल दिया जिसमें प्यूगडेमोंट ने तत्काल कहा कि कातालूनीया की स्वतंत्रता को फिलहाल स्थगित रखा जाएगा जिससे केंद्रीय सरकार के साथ बातचीत हो सके.

नाम न जाहिर करने की शर्त पर एक सरकारी सूत्र ने कहा कि संकट को लेकर वार्ता चल रही है ऐसे में 'सभी विकल्प' मौजूद हैं.

स्पेन के आर्थिक ऊर्जा केंद्र के तौर पर देखे जाने वाला यह इलाका स्वतंत्रता को लेकर विभाजित है जहां 75 लाख लोगों का भविष्य दांव पर है. स्पेन से अलग होने की उसकी मुहिम ने यूरोपीय संघ के स्थायित्व के लिए भी चिंता खड़ी कर दी है.

सरकार अपने इस रुख पर अड़ी थी कि वह मध्यस्थता या किसी बातचीत के लिए तब तक तैयार नहीं होगी जब तक कातालान नेता स्वतंत्रता की मांग को छोड़ते नहीं हैं.

वहीं स्पेन के विदेश मंत्री अल्फोंसो दास्तिस ने कातालान नेता कार्ल्स प्यूगडेमोंट पर 'फरेब' का आरोप लगाया. प्यूगडेमोंट ने स्वतंत्रता के फैसले को स्थगित किया था. मंत्री ने कहा कि इस कदम से आर्थिक और सामाजिक अशांति फैलेगी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi