S M L

सिंगापुर: किम-ट्रंप की मुलाकात के दौरान सुरक्षा में तैनात रहेंगे गोरखा पुलिस

सिंगापुर पुलिस द्वारा चुने गए गोरखा सैनिक पिछले हफ्ते पीएम मोदी, अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस और दूसरे क्षेत्रीय मंत्रियों की सुरक्षा में भी तैनात थे

Updated On: Jun 05, 2018 04:11 PM IST

FP Staff

0
सिंगापुर: किम-ट्रंप की मुलाकात के दौरान सुरक्षा में तैनात रहेंगे गोरखा पुलिस

नॉर्थ कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 12 जून को सिंगापुर में मुलाकात करेंगे. इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं की सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं. उनकी अपनी सुरक्षा टीमों के साथ-साथ दुनिया के सबसे बेहतरीन योद्धा माने जाने वाले गोरखा भी उनकी सुरक्षा में तैनात रहेंगे.

सिंगापुर पुलिस द्वारा चुने गए गोरखा सैनिक पिछले हफ्ते पीएम मोदी, अमेरिकी रक्षा मंत्री जिम मैटिस और दूसरे क्षेत्रीय मंत्रियों की सुरक्षा में भी तैनात थे.

गोरखा क्यों रखते हैं  खुकरी

ये गोरखा बटालियन बेल्जियम की बनी हुई एफएन एससीएआर राइफल और पिस्टल जैसे आधुनिक हथियारों से लैस है. लेकिन इन सभी हथियारों के बावजूद गोरखा अपने पास खुकरी ज़रूर रखते हैं क्योंकि ये उनका पारंपरिक हथियार है. इनका मानना है कि जब भी खुकरी म्यान से बाहर आती है तो इसे किसी न किसी का खून ज़रूर चाहिए होता है.

सिंगापुर आर्म्ड फोर्सेस के एक्सपर्ट टिम हक्सले ने कहा कि गोरखा लोग स्पेशल ऑपरेशन के लिए ट्रेंड होते हैं, इसलिए काफी संभावना है कि इस हाई लेबल मीटिंग के लिए उन्हें तैनात किया जाएगा. हालांकि सिंगापुर पुलिस के प्रवक्ता ने इस पर कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया.

कहां-कहां काम कर रहे हैं गोरखा

पारंपरिक रूप से गोरखा लोगों को सेना में ब्रिटिश द्वारा भर्ती किया जाता था. इस समय गोरखा भारत, नेपाल, ब्रिटिश, ब्रुनेई और सिंगापुर की सेना में काम करते हैं. इन लोगों ने विश्व युद्ध से लेकर फाकलैंड आइलैंड के साथ-साथ हाल ही में अफगानिस्तान में भी युद्ध लड़ा है.

हक्सले ने कहा कि गोरखा सिंगापुर पुलिस के लिए काफी महत्त्वपूर्ण हैं. क्षेत्रीय तनाव की स्थिति में भी इन लोगों ने अंतरराष्ट्रीय स्कूलों की सुरक्षा की है और सिंगापुर मलेशिया बॉर्डर पर भी काम किया है.

ये लोग शहर के बाहर माउंट वरनॉन कैंप में रहते हैं जहां आमतौर पर आम सिंगापुर नागरिक को जाने की इजाज़त नहीं होती है. एक महिला जिसकी गोरखा से शादी हुई है उसका कहना है कि यहां जिन्दगी पर काफी प्रतिबंध हैं. औरत होने के नाते हमें बाहर जाना हो तो कारण बताना पड़ता है लेकिन मर्दों को कुछ बताने की ज़रूरत नहीं होती.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi