S M L

सऊदी प्रिंस को पाकिस्तान से सीधे भारत आने की इजाजत नहीं दी गई, रियाद जाकर फिर आएंगे भारत

क्राउन प्रिंस सलमान का आज से भारत दौरे पर आ रहे हैं. उनका ये दौरा कूटनीतिक और राजनीतिक लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है

Updated On: Feb 19, 2019 09:33 AM IST

FP Staff

0
सऊदी प्रिंस को पाकिस्तान से सीधे भारत आने की इजाजत नहीं दी गई, रियाद जाकर फिर आएंगे भारत

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान आज यानी 19 फरवरी को भारत आने वाले थे. लेकिन भारत सरकार ने उन्हें पाकिस्तान से भारत आने की मंजूरी नहीं दी. लिहाजा अपना पाकिस्तान दौरा खत्म करके प्रिंस सलमान सोमवार को पहले रियाद गए और आज भारत आएंगे.

प्रिंस सलमान 2 दिन के दौरे पर भारत पहुंच रहे हैं. इस दौरान पाकिस्तान के आतंकवाद को बढ़ावा देने के मुद्दे पर बातचीत हो सकती है. सऊदी के प्रिंस का यह दौरा कूटनीतिक और राजनीतिक लिहाज से काफी अहम माना जा रहा है.

इससे पहले प्रिंस सलमान पाकिस्तान के दौरे पर थे. वो रविवार को इस्लामाबाद पहुंचे थे और सोमवार को ही वापस सऊदी अरब लौट गए क्योंकि मंगलवार को उन्हें भारत के दौरे पर रवाना होना था. दरअसल पुलवामा हमले की वजह से भारत ने प्रिंस सलमान के पाकिस्तान से सीधे भारत आने पर आपत्ति जताई थी.

आतंकवाद पर क्या है सऊदी अरब का पक्ष

CNN News 18 के मुताबिक क्राउन प्रिंस के दौरे से पहले, सऊदी अरब के विदेश मामलों के राज्य मंत्री अदेल अल-जुबिर ने सोमवार को इस्लामाबाद में कहा कि रियाद भारत और पाकिस्तान के बीच पुलवामा आंतकी हमले की वजह से बने तनावपूर्ण हालातों को खत्म करने की कोशिश करेगा.

वहीं आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि पाकिस्तान की तरफ से कश्मीर और सीमा पार हो रहे आतंकी हमलों पर सऊदी अरब पाकिस्तान की कोई सफाई स्वीकार नहीं कर रहा है. साथ में ये भी बताया गया है कि बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और क्राउन प्रिंस के बीच होने वाले प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता के दौरान आतंकवादी समूहों को पाकिस्तान का समर्थन मिलने का मुद्दा भी उठाया जाएगा.

सूत्रों के मुताबिक दोनों पक्षों के बीच बातचीत के बाद एक संयुक्त बयान जारी किया जाएगा जिसमें आतंकवाद और इससे निपटने के तरीकों के बारे में बताया जा सकता है. विदेश मंत्रालय में सचिव और आर्थिक मामलों के अधिकारी टीएस त्रिमूर्ति ने कहा कि प्रिंस सलमान के दौरे के दौरान सऊदी अरब और भारत के बीच पांच समझौतों पर हस्ताक्षर हो सकते हैं. इनमें निवेश, पर्यटन, आवास और सूचना और प्रसारण के मुद्दे शामिल होंगे.

सूत्रों ने कहा कि सऊदी ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की है. पिछले कुछ सालों में आतंकवाद और जम्मू-कश्मीर को लेकर सऊदी की समझ में बड़ा बदलाव आया है. सुरक्षा के मुद्दे पर सूत्रों ने कहा कि भारत और सऊदी अरब के सुरक्षा सहयोग बहुत सक्रिय हैं. दोनों देश सक्रिय रूप से आतंकवाद-रोधी, खुफिया साझाकरण, मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद पर जानकारी साझा करने में सक्रिय हैं. सऊदी ने पिछले कुछ सालों में कई आतंकवादियों को भारत में प्रत्यर्पण किया है.

भारत में बड़े निवेश  की संभावना ये पहली बार है जब प्रिंस सलमान भारत के दौरे पर आ रहे हैं. सूत्रों का कहना है कि रत्नागिरी रिफाइनरी परियोजना में सऊदी अरामको और अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी (ADNOC) के जरिए 44 बिलियन डॉलर के निवेश पर बातचीत भी सलमान की भारत यात्रा के दौरान होगी. इसी बीच सूत्रों ने बताया कि सऊदी अरब भारत में बड़े निवेश कर सकता है. सऊदी प्रिंस जब भारत आएंगे तो वे यहां पर निवेश के तौर पर बड़ा इनवेस्ट कर सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi