S M L

मशहूर भौतिक विज्ञानी ईसी जॉर्ज सुदर्शन का निधन

भारत में जन्में सुदर्शन 86 वर्ष के थे और करीब 40 सालों से टेक्सास यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे और सुदर्शन को रिकॉर्ड 9 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नॉमिनेट किया गया था

FP Staff Updated On: May 14, 2018 06:27 PM IST

0
मशहूर भौतिक विज्ञानी ईसी जॉर्ज सुदर्शन का निधन

प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी ईसी जार्ज सुदर्शन का सोमवार को अमेरिका के टेक्सास में निधन हो गया है. भारत में जन्में सुदर्शन 86 वर्ष के थे और करीब 40 सालों से टेक्सास यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर थे. केरल के कोट्टायम जिले के पल्लम गांव में 1931 में उनका जन्म हुआ था. उन्होंने कोट्टायम के सीएमएस कॉलेज से पढ़ाई की थी और मास्टर्स यूनिवर्सिटी ऑफ मद्रास से किया था. उन्होंने होमी जहांगीर भाभा के साथ टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च में थोड़े समय के लिए काम भी किया था.

1958 में उन्होंने यूनिवर्सिटी और रोचेस्टर से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की. इसके बाद उन्होंने नोबेल पुरस्कार विजेता और प्रसिद्ध भौतिक विज्ञानी जूलियन स्चेविंगर के निर्देशन में पोस्ट-डाक्टरेट की.

सुदर्शन ने क्वांटम कॉहेरेंस, ओपेन क्वांटम सिस्टम, नॉन-वेरिएंस ग्रुप्स पर कई अन्य वैज्ञानिकों के साथ मिलकर काम किया था. सुदर्शन को रिकॉर्ड 9 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नॉमिनेट किया गया था. 2005 में वे नोबेल पुरस्कार हासिल करते-करते रह गए.

दरअसल 2005 में उन्हें अन्य वैज्ञानिकों के साथ फिजिक्स के नोबेल पुरस्कार के लिए नॉमिनेट भी किया गया था. लेकिन उनके साथ मिलकर 'सुदर्शन-ग्लाबेर रिप्रजेंटेशन' बनाने वाले भौतिक विज्ञानी रॉय जे ग्लाबेर को उस साल के फिजिक्स का नोबेल पुरस्कार अन्य वैज्ञानिकों के साथ दिया गया. ग्लाबेर को यह पुरस्कार 'ऑप्टिकल कॉहेरेंस के क्वांटम थ्योरी' के लिए दिया गया. इसके बाद फिजिक्स के क्षेत्र में इसको लेकर काफी बहस भी चली. रॉयल स्वीडिश अकादमी ने इसको लेकर यह सफाई दी कि वो एक साल में 3 से अधिक वैज्ञानिकों को एक ही क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार नहीं दे सकता.

सुदर्शन के महत्वपूर्ण कामों में से एक काम weak force से संबंधित V-A थ्योरी पर किया गया काम भी है. 2007 में भारत सरकार ने सुदर्शन के काम का सम्मान करते हुए उन्हें भारत का दूसरा सबसे बड़ा नागरिक सम्मान पद्म विभूषण प्रदान किया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi