S M L

इतिहास रचने के करीब आयरलैंड, गर्भपात पर लगे बैन को खत्म करने के पक्ष में वोटिंग

गर्भपात पर लगे प्रतिबंध को खत्म करने के लिए कराए गए जनमत संग्रह के शुरुआती नतीजों में 60 प्रतिशत लोगों ने प्रतिबंध हटाने के पक्ष में वोट दिया है

FP Staff Updated On: May 26, 2018 10:01 PM IST

0
इतिहास रचने के करीब आयरलैंड, गर्भपात पर लगे बैन को खत्म करने के पक्ष में वोटिंग

आयरलैंड में गर्भपात पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिए करवाए गए जनमत संग्रह के पहले नतीजे में लोगों ने इसकी समाप्ति के पक्ष में मतदान किया है. नतीजों के मुताबिक, 60 प्रतिशत लोग इस प्रतिबंध को खत्म करने के पक्ष में हैं.

आयरलैंड के मतदाताओं ने इस पारंपरिक कैथोलिक देश को यूरोप के कुछ कड़े गर्भपात संबंधी कानूनों को लचीला बनाना चाहिए या नहीं, इस मुद्दे पर जनमत संग्रह में हिस्सा लिया था. आयरलैंड पारंपरिक रूप से यूरोप के सबसे धार्मिक देशों में से एक है. हालांकि बाल यौन उत्पीड़न के मामले प्रकाश में आने के बाद हाल के वर्षों में कैथोलिक चर्च का प्रभाव कम हुआ है.

भारतीय मूल की गर्भवती महिला सविता हलप्पनावर को गर्भपात की अनुमति नहीं मिलने पर उसकी मौत के बाद मां की जिंदगी पर जोखिम होने पर गर्भपात की अनुमति के लिए 2013 में इस कानून में बदलाव किया गया था.

इससे पहले आयरलैंड के भारतवंशी प्रधानमंत्री लियो वरदकर ने घोषणा की थी कि देश इतिहास रचने को तैयार है क्योंकि देश के कड़े गर्भपात कानूनों को लचीला बनाने के मुद्दे पर हुए जनमत संग्रह में इसके पक्ष में जबरदस्त जीत होने के संकेत मिले हैं.

‘द आयरिश टाइम्स’ के एक्जिट पोल में आयरलैंड के संविधान के आठवें संशोधन को निरस्त करने के पक्ष में 68 प्रतिशत मत पड़े. संविधान के आठवें संशोधन में किसी अजन्मे शिशु और उसकी मां को जीवन का समान अधिकार प्रदान किया गया है. एक्जिट पोल के नतीजों से आह्लादित आयरलैंड के प्रधानमंत्री वरदकर ने कहा, ‘ऐसा प्रतीत होता है हमलोग इतिहास रचेंगे.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
सदियों में एक बार ही होता है कोई ‘अटल’ सा...

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi