S M L

कतर से आई भारतीय कामगारों के लिए खुशखबरी, अब घर आना होगा आसान

अब पुराने कानून के तहत जिसमें मजदूरों को अपने मालिकों से परमिट लेनी होती थी, उसे खत्म कर दिया गया है

Updated On: Sep 05, 2018 11:28 AM IST

FP Staff

0
कतर से आई भारतीय कामगारों के लिए खुशखबरी, अब घर आना होगा आसान
Loading...

खाड़ी देश कतर ने मंगलवार को अपने रेजीडेंसी लॉ में नया संशोधन किया है, जिससे वहां काम करने वाले विदेशी कामगारों के लिए काफी आसानी हो सकती है. इस नए संशोधन के बाद अब विदेशी कामगारों को देश छोड़ने के लिए अपने मालिकों से अनुमति नहीं लेनी होगी.

ये संशोधन कतर के मजदूर अधिकार संगठनों के लिए भी बड़ी जीत है क्योंकि वो लंबे वक्त से इस प्रावधान का विरोध करते रहे हैं. इस प्रावधान के तहत वहां काम करने वाले विदेशी कामगारों और मजदूरों को घर जाने या देश छोड़ने के लिए अपने मालिकों से अनुमति लेनी होती थी.

मंगलवार को दोहा के अपने ऑफिस से इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइजेशन ने एक बयान जारी कर कहा कि अब पुराने कानून के तहत जिसमें मजदूरों को अपने मालिकों से परमिट लेनी होती थी, उसे खत्म कर दिया गया है अब अधिकतर मजदूर अपने मालिकों से अनुमति लिए बगैर देश छोड़ सकेंगे.

ऑर्गनाइजेशन ने इसे एक महत्वपूर्ण कदम बताया. कतर ने पिछले साल ही अपने लेबर रिफॉर्म और एग्जिट वीज़ा सिस्टम में बदलाव के लिए प्रतिबद्धता जताई थी. सरकार ने मजदूरों के लिए न्यूनतम भत्ता और शिकायत निवारण की प्रक्रिया शुरू करने का वादा किया है.

इसके अलावा कतर 2022 में फीफा वर्ल्ड कप होस्ट करने वाला है. कतर इसे अपने विकास और प्रगति को इंडोर्स करने के लिए भी इस्तेमाल करेगा. इसलिए इसके पहले वो कुछ सुधार वाले कदम उठाना चाहता है.

कतर में पुराने कानून यानी कफाला स्पॉन्सरशिप सिस्टम पर वक्त-वक्त पर मजदूर और अधिकार संगठन हमला बोलते रहे हैं.

हालांकि एशियाई कामगारों के लिए अभी भी अपने मालिकों से नौकरी बदलने के लिए अनुमति लेना मुश्किल होगा.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi