S M L

बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों से मिलकर रो पड़े पोप फ्रांसिस

पोप ने कहा कि मैं रोया, मैंने अपने आंसू छिपाने की कोशिश की. मैंने अपने आप को कहा कि मैं उनसे बिना एक भी शब्द कहे जा नहीं सकता

Updated On: Dec 03, 2017 10:57 AM IST

Bhasha

0
बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों से मिलकर रो पड़े पोप फ्रांसिस

पोप फ्रांसिस ने कहा कि वो बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों की बदहाली की व्यथा को सुनकर रो पड़े थे. उन्होंने कहा कि रोहिंग्या लोगों से मुलाकात म्यांमार और बांग्लादेश की उनकी यात्रा के लिए एक शर्त थी.

पोप की रोहिंग्या लोगों से मुलाकात म्यांमार में हिंसा के कारण भाग रहे मुस्लिम अल्पसंख्यकों के साथ एकजुटता जताने का सूचक थी. पोप फ्रांसिस ने रोम लौटते समय विमान में पत्रकारों से कहा कि उनसे हुई मुलाकात में शरणार्थी भी रो रहे थे.

उन्होंने कहा, ‘मैं जानता था कि मैं रोहिंग्या लोगों से मुलाकात करुंगा लेकिन ये नहीं पता था कि कहां और कैसे. मेरे लिए यह यात्रा की एक शर्त थी.

पोप ने म्यांमार की अपनी यात्रा के दौरान सार्वजनिक तौर पर रोहिंग्या का कोई प्रत्यक्ष जिक्र नहीं किया. वो तीन दिन के बांग्लादेश की यात्रा पर भी गए थे. जहां उन्होंने इस बात का जिक्र किया.

rohingya

म्यांमार से भागकर आए रोहिंग्या मुसलमान बांग्लादेश में शरणार्थी शिविरों में काफी खराब हालत में रह रहे हैं

बांग्लादेश में शरणार्थी शिविर जाकर रोहिंग्या से मिले पोप 

बांग्लादेश में पोप ने एक शरणार्थी शिविर में रह रहे रोहिंग्या लोगों के एक समूह से मुलाकात की और उन्हें संबोधित किया.

उन्होंने कहा, ‘बांग्लादेश ने उन लोगों के लिए काफी कुछ किया है, यह स्वागत करने का एक उदाहरण है.’

पोप ने कहा, ‘मैं रोया, मैंने अपने आंसू छिपाने की कोशिश की. मैंने अपने आप को कहा कि मैं उनसे बिना एक भी शब्द कहे जा नहीं सकता.’

पोप ने रोहिंग्या ने कहा, ‘जिन लोगों ने आपको सताया, आपको नुकसान पहुंचाया और दुनिया की उदासीनता को लेकर मैं आपसे उन्हें माफ करने के लिए कहता हूं.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi