S M L

जापान में बोले मोदी, बेईमानों का हिसाब चुकता होगा

तीन दिवसीय दौरे पर जापान पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीय समुदाय को संबोधित किया

Updated On: Nov 22, 2016 02:30 PM IST

Krishna Kant

0
जापान में बोले मोदी, बेईमानों का हिसाब चुकता होगा

तीन दिवसीय दौरे पर जापान पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए कालेधन पर भी अपनी बात कही. उन्होंने कालाधन वालों को चेतावनी देते हुए कहा कि बेईमानों का हिसाब चुकता होकर रहेगा.

भारतीय समुदाय को संबोधित कर रहे हैं मोदी. उन्होंने कहा, 'भारत की युवा पीढ़ी पर मुझे गर्व है. भारत को गरीबी से मुक्त कराना है. देश में करीब 40 फीसद भारतीयों के पास खाता नहीं था. हमने देश में सभी भारतीयों के लिए करोड़ों खाते खुलवाए. हमने गरीबों को कहा था कि एक रुपया नहीं होगा तो भी बैंक में खाता खुलेगा.'

गरीबों ने अमीरी दिखाई

सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा, 'मैं कहूंगा कि गरीबों ने अमीरी दिखाई. जिसका जीवन में कभी अकाउंट नहीं खुला था, बैंक का दरवाजा नहीं देखा था, इन गरीबों ने करीब 45 हजार करोड़ रुपए बैंकों में जमा किए. ये है गरीबों की अमीरी. ये है हमारे देश की सबसे बड़ी ताकत. हम देश को जैसा चाहें वैसा बनाने की सामर्थ्य रखते हैं.'

मुंह उंगली डालने पर भी कोई खिलाफ नहीं बोल रहा

मोदी ने कालेधन पर लिए गए ताजा फैसले में सहयोग करने को लेकर धन्यवाद देते हुए कहा, 'मैं सवा सौ करोड़ भारतीयों को नमन करता हूं. घर में शादी है, पैसे नहीं हैं. मां बीमार है लेकिन पैसे नहीं हैं. इसके बावजूद भी लोग मुंह में उंगली डाल-डाल कर कह रहे हैं कि मोदी के खिलाफ बोलो लेकिन कुछ बोल नहीं रहा. कोई चार घंटे लाइन में खड़ा रहा, कोई छह घंटा, लेकिन जनता ने उसी तरह इस निर्णय को स्वीकार किया है जैसे 2011 में जापान के लोगों ने भूकंप संकट झेला था.'

ईमानदारों के लिए सरकार सबकुछ करेगी

उन्होंने कहा, 'ये अपने आप में देश के उज्ज्वल भविष्य की निशानी है. ये ठीक है कि पाप करने वालों की संख्या कोई ज्यादा नहीं होगी, लाख दो लाख होगी, लेकिन फिर भी सवा सौ करोड़ लोगों को लगता है कि ये ठीक है. कालाधन वाले घबरा गए हैं. नोटें बह रही हैं गंगा जी में. जो मुझे जानते हैं, उनको समस्या आती हैं. वे सोचते हैं कि बैंक जाने की बजाय गंगा जी में जाना जरूरी है. पैसा मिले न मिले, पुण्य तो मिल जाएगा. ईमानदारी के लिए सरकार सबकुछ करेगी. बेईमानों का हिसाब चुकता होकर ही रहेगा.'

देशवासियों को कोई तकलीफ नहीं होगी

मोदी ने कहा, 'हमने सबसे पहले एक स्कीम निकाली कि आप इतना दंड देकर जमा कर दीजिए. तब भी लोग कहते थे कि मोदी फेल हो गए. करीब करीब सवा लाख रुपए वापस आए हैं. मौका दिया था, ऐसा नहीं है कि नहीं दिया था. फिर भी आपको लगता है कि वैसा ही है, जैसा था तो गलती मेरी नहीं है.'

उन्होंने कहा, '30 दिसंबर तक समय है, देशवासियों को कोई तकलीफ नहीं होगी. जल्दबाजी करेंगे तो तकलीफ होगी. आज ऐलान करना चाहूंगा कि ये स्कीम पूरी होने के बाद दूसरा कुछ ठिकाने लगाने के लिए नहीं आएगा, इसकी गारंटी नहीं है. मैंने मौका दिया है, मुख्यधारा में आ जाइए. आना है तो आ जाइए, वरना आपका नसीब जाने.' उन्होंने दुनियाभर में नाम करने वाले भारतीयों की तारीफ भी की.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi