Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

पाकिस्तानी खुफिया अधिकारी ने माना- हां, हम आतंकवादियों को बचाते हैं

जासूस ने इस्लामाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर कर इसकी विस्तार से जांच के लिए आईएसआई में भेजने की मांग की है

FP Staff Updated On: Sep 26, 2017 03:57 PM IST

0
पाकिस्तानी खुफिया अधिकारी ने माना- हां, हम आतंकवादियों को बचाते हैं

पाकिस्तान के एक इंटेलिजेंस ऑफिसर ने अपनी ही खुफिया एजेंसी पर आतंकवादियों को ‘संरक्षण’ देने का आरोप लगाया है. उन्होंने इसकी विस्तार से जांच के लिए देश की एक अदालत में याचिका दायर की है.

मंगलवार को मीडिया रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई.

पाकिस्तान के इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के सेवारत सहायक सब-इंस्पेक्टर (एएसआई) मलिक मुख्तार अहमद शहजाद ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों पर आतंकवाद के संदिग्धों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है.

अखबार डॉन की एक रिपोर्ट के अनुसार इस्लामाबाद हाईकोर्ट में दायर याचिका में शहजाद ने अदालत से अनुरोध किया कि मामले की विस्तृत जांच के लिए इसे इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) को भेजा जाए.

अखबार ने अदालत के अधिकारी के हवाले से लिखा कि इस्लामाबाद हाईकोर्ट रजिस्ट्रार के दफ्तर ने सुनवाई के लिए याचिका जस्टिस आमिर फारूक के सामने लिस्टेड किया. जिन्होंने सोमवार को मामला चीफ जस्टिस मोहम्मद अनवर खान कासी को यह कहकर भेज दिया कि चूंकि उनकी अदालत में ऐसा ही एक मामला लंबित है इसलिए इसे जस्टिस शौकत अजीज को भेजा जा सकता है.

अपने वकील मसरूर शाह के जरिए दायर याचिका में शहजाद ने दावा किया कि उन्होंने विभिन्न देशों के आतंकवादी समूहों के खिलाफ रिपोर्ट की लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई.

याचिका में कहा गया, ‘याचिकाकर्ता ने साफ तौर पर निराशा जताते हुए कहा कि खुफिया रिपोर्ट के रूप में ठोस सबूत मुहैया कराने के बावजूद आईबी ने इस संबंध में कोई कार्रवाई नहीं की.’ इसके अनुसार, ‘खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार ऐसा प्रतीत होता है कि आईबी के सीनियर अफसर खुद उन आतंकवादी संगठनों के साथ शामिल हैं, जिनका दुश्मन की खुफिया एजेंसियों के साथ संपर्क है.’

इसमें कहा गया कि मामला आईबी महानिदेशक को रिपोर्ट की गई लेकिन उन्होंने इस संबंध में कोई कदम नहीं उठाया.

इसमें दावा किया गया कि इजरायल जाने वाले आईबी अधिकारियों का अफगान इंटेलिजेंस से सीधा संपर्क था. बाद में यह पता चला कि अफगान इंटेलिजेंस के कजाकिस्तान के अन्य आतंकवादी समूह के साथ संपर्क थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi