S M L

अंतरिक्ष से भारत पर नजर रखने की तैयारी में पाकिस्तान

पाकिस्तान अपने इस स्पेस प्रोग्राम का बजट 4.7 अरब रुपए रखा है

Updated On: Apr 29, 2018 08:18 PM IST

PTI

0
अंतरिक्ष से भारत पर नजर रखने की तैयारी में पाकिस्तान

पाकिस्तान अगले वित्त वर्ष एक महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष कार्यक्रम लॉन्च करने की तैयारी में है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस स्पेस प्रोगाम का मकसद भारत पर नजर रखना और अपने सैन्य और असैन्य उद्देश्यों के लिए विदेशी सैटेलाइट पर निर्भरता कम करना चाहता है.

डॉन न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक, सैन्य और असैन्य संचार के लिए अमेरिकी व फ्रांसीसी उपग्रह पर निर्भरता कम करते हुए अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए पाकिस्तान कई सैटेलाइट प्रॉजेक्ट शुरू करने जा रहा है.

इस रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान ने वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए अंतरिक्ष और ऊपरी वायुमंडल अनुसंधान संगठन (Suparco) का बजट 4.7 अरब रुपए रखा है, जिसमें 2.55 अरब रुपए तीन नई परियोजना के लिए हैं.

पाकिस्तान का अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन सुपारको वर्ष 2005 से ही छात्रों और आम लोगों में अंतरिक्ष तकनीक को लेकर जागरूकता बढ़ाने के लिए नियमित रूप से तरह-तरह के कार्यक्रम चलाता रहा है.

सुपारको के लिए आवंटित बजट में पाकिस्तान मल्टी-मिशन सैटलाइट (PakSat- MM1) के लिए 1.35 अरब रुपए दिया गया है. इसके अलावा 1 अरब रुपए की लागत से कराची, लाहौर और इस्लामाबाद में पाकिस्तान स्पेस सेंटर स्थापित करने की भी योजना है.

इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि वित्त वर्ष 2018-19 में कराची में भी स्पेस ऐप्लिकेशन रिसर्च सेंटर स्थापित करने के लिए 20 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं. इसमें साथ ही बताया गया कि PakSat-MM1 की कुल लागत 27.57 अरब रुपए होगी और स्पेस सेंटरों को स्थापित करने की लागत 26.91 अरब रुपए है.

वहीं विश्लेषकों का कहना है कि जीपीएस, मोबाइल टेलिफोनी और इंटरनेट सहित असैन्य संचार क्षेत्र की बढ़ती मांग की वजह से मॉडर्न स्पेस प्रोग्राम वक्त की जरूरत के साथ-साथ क्षेत्र में बदलते समीकरण के लिहाज से भी काफी अहम हैं.

रक्षा विश्लेषक मारिया सुल्तान कहती हैं, 'क्षेत्र में 2 असामान्य गतिविधियां रणनीतिक स्थिति को प्रभावित कर रही हैं- सबसे पहले तो पाकिस्तान को भारत पर नजर रखनी है. दूसरी बात यह है कि पहले उनके प्रोग्राम सीमित गुणवत्ता वाले थे, लेकिन अब अमेरिका भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम में सक्रिय तौर पर सहयोग कर रहा है.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi