S M L

भारत कुछ भी कर ले, कश्मीर को आजाद होना ही हैः हाफिज सईद

नजरबंदी से रिहाई की सूचना मिलते ही एक वीडियो जारी कर कहा कि मेरे और मेरे साथियों की अल्लाह मदद करे कि हम कश्मीर को आज़ाद करा लें

FP Staff Updated On: Nov 23, 2017 11:09 AM IST

0
भारत कुछ भी कर ले, कश्मीर को आजाद होना ही हैः हाफिज सईद

मुंबई हमले का मास्टरमाइंड और जमात-उद-दावा सरगना हाफिज सईद ने जेल से रिहा होते ही सबसे पहले भारत को धमकी दी. उसने कहा कि कश्मीर तो आजाद होकर रहेगा. इसे रोकने के लिए भारत को जो करना है कर ले.

नजरबंदी से रिहाई की सूचना मिलते ही एक वीडियो जारी कर कहा कि मेरे और मेरे साथियों की अल्लाह मदद करे कि हम कश्मीर को आजाद करा लें. भारत मुझे नुकसान नहीं पहुंचा सकता है. कश्मीर की वजह से ही भारत मेरे पीछे पड़ा है. गुरूवार को उसे रिहा किया जा रहा है.

हाफिज ने अपनी रिहाई को 'पाकिस्तान की आजादी की जीत' कहा है. वीडियो में सईद ने कहा, 'जजों ने रिहाई का हुक्म दिया. मैं जजों का शुक्रिया अदा करता हूं. लाहौर हाईकोर्ट से जुड़े सभी लोगों का धन्यवाद देता हूं. मेरी रिहाई पाकिस्तान की आजादी की फतह है. इंशाअल्लाह कश्मीर भी आजाद होगा.'

हाफिज सईद के चार साथियों को पहले ही रिहा किया जा चुका है 

सईद इस साल जनवरी से नजरबंद था. पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के न्यायिक समीक्षा बोर्ड ने बुधवार को उसे रिहा करने का आदेश दिया था. पिछले महीने बोर्ड ने सईद की हिरासत 30 दिनों के लिए बढ़ाने की इजाजत दी थी और ये मियाद इस सप्ताह पूरी हो जाएगी.

नजरबंदी की मियाद को तीन महीने बढ़ाने के सरकार के आग्रह को खारिज करते हुए बोर्ड ने सईद की रिहाई का आदेश दिया. बोर्ड ने कहा, ‘अगर जमात-उद-दावा का प्रमुख हाफिज सईद किसी अन्य मामले में वांछित नहीं है तो उसकी रिहाई का आदेश दिया जाता है.’

सईद और चार साथियों अब्दुल्ला उबैद, मलिक जफर इकबाल, अब्दुल रहमान आबिद और काजी कासिफ हुसैन को पंजाब की सरकार ने आतंकवाद विरोधी कानून-1997 और आतंकवाद विरोधी कानून की चौथी अनुसूची के तहत 90 दिनों के लिए नजरबंद किया था. उन्हें पहले ही रिहा किया जा चुका है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
FIRST TAKE: जनभावना पर फांसी की सजा जायज?

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi