S M L

पाकिस्तान चुनाव: जानिए इस बार चुनावी समीकरण में क्या है खास?

दुनिया भर की सबसे बड़ी सैन्य ताकतों में से एक पाकिस्तान की 64 प्रतिशत आबादी की उम्र 30 साल से कम है

Nitesh Ojha Updated On: Jul 22, 2018 10:36 PM IST

0
पाकिस्तान चुनाव: जानिए इस बार चुनावी समीकरण में क्या है खास?

1947 में भारत के साथ-साथ आजादी प्राप्त करने वाला पाकिस्तान दक्षिण एशिया का एक अहम देश है. यह देश 25 जुलाई को अपने राजनीतिक भविष्य के लिए मतदान करेगा. ऐसे में चुनाव और पाकिस्तान से जुड़े कुछ समीकरणों पर नजर डालना लाज़मी है.

सबसे पहले पाकिस्तान निर्वाचन आयोग के आंकड़ों पर नजर डालते हैं. आयोग के मुताबिक 20 करोड़ से ज्यादा आबादी वाले पाकिस्तान में कुल 10,59,55,407 रजिस्टर्ड वोटर हैं. इनमें 4,67,31,145 महिला और 5,92,24,262 पुरुष वोटर शामिल हैं. जो आगामी नेशनल असेंबली चुनाव में 110 अलग-अलग राजनीतिक पार्टियों के 3,765 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे.

पिछले चुनावों से उलट हैं राजनीतिक माहौल

हालांकि पिछले आम चुनावों में अच्छी खासी आबादी के बाद भी सिर्फ 55 फीसदी मतदाताओं ने ही अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. तब पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन सत्ता में आई थी. उस वक्त नवाज शरीफ देश के प्रधानमंत्री बने थे. अभी राजनीतिक हालात बिलकुल उलट हैं. पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनकी बेटी मरियम भ्रष्टाचार के मामलों के चलते जेल में हैं.

राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि इस बात का फायदा नवाज को हो सकता है. क्योंकि पाकिस्तान की आवाम भावुकता के आधार पर नवाज की पार्टी के पक्ष में वोट डाल सकती है. हालांकि यह तो मतदान के नतीजों के बाद ही साफ होगा.

आठ घोषित परमाणु शक्तियों में से एक

दुनिया भर की सबसे बड़ी सैन्य ताकतों में से एक पाकिस्तान की 64 प्रतिशत आबादी 30 साल से कम उम्र की है. इस लिहाज से पाकिस्तान दुनिया के सबसे युवा देशों में से एक है. इसी के साथ पाकिस्तान आठ घोषित परमाणु शक्तियों में से भी एक है. ऐसे में इसके राजनीतिक भविष्य को तय करने वाले चुनावों पर दुनियाभर के मीडिया का ध्यान टिका हुआ है.

धार्मिक मुद्दे भी अहम  

धार्मिक आधार पर बने पाकिस्तान में मुख्य धर्म इस्लाम है. देश की 96.28 फीसदी आबादी मुस्लिम है. वहीं पाकिस्तान में 1.6 फीसदी लोग हिंदू तो ईसाई धर्म को मानने वालों की आबादी 1.59 फीसदी है. राजनीतिक विशेषज्ञों का कहना है कि आगामी चुनावों में धार्मिक मुद्दे भी काफी अहम रोल निभा सकते हैं.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi