S M L

'अल्पसंख्यकों को मरवाने के लिए जिहादियों का सहारा लेती है पाक आर्मी'

पाकिस्तानी एक्टिविस्ट नदीम नुसरत ने कहा है कि पाकिस्तान की सेना पाकिस्तान की 'धार्मिक शुद्धता' के लिए अल्पसंख्यकों को जिहादियों से मरवा रही है

FP Staff Updated On: Mar 22, 2018 01:20 PM IST

0
'अल्पसंख्यकों को मरवाने के लिए जिहादियों का सहारा लेती है पाक आर्मी'

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को वहां की सेना से ही खतरा है क्योंकि सेना पाकिस्तान की 'धार्मिक शुद्धता' के लिए अल्पसंख्यकों को जिहादियों से मरवा रही है. इसका दावा खुद एक पाकिस्तानी एक्टिविस्ट नदीम नुसरत ने किया है. नुसरत ने ये भी कहा कि वहां एक्टिविस्ट्स भी सुरक्षित नहीं हैं.

नदीम नुसरत पाकिस्तान की मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट पार्टी के संयोजक और फ्री कराची कैंपेन के प्रवक्ता हैं. एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने कहा, 'पिछले दशकों में पाकिस्तानी सेना कट्टर हो गई है और देश में एक्टिविस्टों और अल्पसंख्यकों पर हमले करने के लिए जिहादियों को समर्थन दे रही है.' उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी कोर्ट भी इस मामले में कुछ नहीं कर पा रहे हैं.

नुसरत ने भारत-पाकिस्तान के खराब संबंधों के लिए भी पाकिस्तानी सेना को जिम्मेदार ठहराया. उन्होंने कहा, 'पाकिस्तानी आर्मी भारत के साथ लगातार खराब संबंधों की वजह से ही अस्तित्व में है. एक बार ये संबंध ठीक हो जाएं, तो पाकिस्तानी आर्मी को अपने होने का अर्थ भी समझ नहीं आएगा. ' उन्होंने आगे ये भी जोड़ा कि खराब संबंधों के पीछे पाक आर्मी का राजनीति में दखल देने की प्रवृत्ति है.

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की प्रताड़ित करने की प्रवृत्ति के चलते ही आज बलोच और दूसरे अल्पसंख्यक विरोध की आवाज उठा रहे हैं. उन्होंने बुधवार को रिलीज हुए एमनेस्टी रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि लोगों के गायब होने की घटना बढ़ी है. एमनेस्टी ने ऐसी 700 घटना होने की बात कही है लेकिन नुसरत का कहना है कि ऐसी हजार से ऊपर घटनाएं हुई है.

आर्मी के साथ-साथ नुसरत ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को भी जिहादियों की मदद करने वाला बताया. नुसरत ने कहा कि आईएसआई पाकिस्तान में आतंकियों को आतंकी गतिविधियों के लिए इजाजत देती है.

उन्होंने कहा, 'पाकिस्तान की धरती हमेशा से बड़े आतंकी हमलों को प्लान करने और अंजाम देने के लिए इस्तेमाल की जाती है. आतंक को पनाह देने वालों और आतंक फैलाने वालों के खिलाफ यूएन और शांतिप्रिय देशों को एक्शन लेना चाहिए.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi