S M L

किम जोंग-उन उत्तर कोरिया से सिंगापुर लेकर गए हैं अपना 'कमोड'

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के रिजोल्यूशन 2270 के तहत उत्तर कोरिया को किसी भी तरह का एयरक्राफ्ट, शिप व क्रू उधार देने पर रोक है

Updated On: Jun 12, 2018 01:12 PM IST

FP Staff

0
किम जोंग-उन उत्तर कोरिया से सिंगापुर लेकर गए हैं अपना 'कमोड'

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन की 12 जून को होने वाली मीटिंग पर पूरी दुनिया की निगाहें टिकी हुई थीं. मीटिंग सिंगापुर में हुई और दोनों देशों की ओर से सुरक्षा के बेहद कड़े इंतजाम थे. लेकिन इन सबके बीच जिस चीज ने लोगों का ध्यान सबसे ज्यादा अपनी ओर खींचा वो था उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन का सुरक्षा इंतजाम.

किम जोंग को सिंगापुर ले जाने के लिए उत्तर कोरिया से तीन अलग-अलग विमानों (IL76, एयर चाइना बोइंग 747 और इल्यूशिन IL62) ने एक-एक घंटे के अंतराल पर रविवार को उड़ान भरी थी. लेकिन किसी को भी यह नहीं मालूम था कि किम जोंग किस विमान में हैं? किम की बहन यो-जोंग भी सोवियत-एरा के एक विमान में सिंगापुर पहुंचीं.

उत्तर कोरिया के एक अधिकारी ने बताया कि इन नेताओं की मुलाकात को लेकर काफी तनाव था, इसलिए इस बात को पूरी तरह से गुप्त रखा गया कि किम जोंग किस विमान में हैं? पहले विमान में किम जोंग के लिए खाने-पीने की चीजें, बुलेट-प्रूफ लिमोजिन गाड़ी व पोर्टेबल टॉयलेट सिंगापुर पहुंचाई गए. पोर्टेबल टॉयलेट इसलिए ले जाया गया था, ताकि किम जोंग के स्टूल (मल) की किसी तरह की जांच न की जा सके या उस पर किसी तरह का परीक्षण न किया जा सके.

सुरक्षा कारणों से किम जोंग ने शंघाई होकर सिंगापुर की यात्रा नहीं की, क्योंकि ये रास्ता समुद्र के ऊपर से होकर जाता है जिससे सुरक्षा करने में दिक्कत होती है. इसके बजाय किम ने बीजिंग होकर सिंगापुर की यात्रा की, जिसमें 10 घंटे लगे और खर्च भी काफी हुआ. चीन के एविएशन सोर्सेज ने दक्षिण कोरिया की समाचार डेली 'चोशुन इल्बो' को बताया कि किम को एयरक्राफ्ट लोन पर देना दिखाता है कि चीन के ऊपर काफी राजनीतिक दबाव था और इसकी वजह से चीन को भारी खर्च भी करना पड़ा.

Singapore :In this photo released by the Ministry of Communications and Information of Singapore, North Korean leader Kim Jong Un, right, arrives at the Changi International Airport, Sunday, June 10, 2018, in Singapore ahead of a summit with U.S. President Donald Trump. AP/PTI Photo(AP6_10_2018_000086B)

मालूम हो कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के रिजोल्यूशन 2270 के तहत उत्तर कोरिया को किसी भी तरह का एयरक्राफ्ट, शिप व क्रू उधार देने पर रोक है. लेकिन मौजूदा परिस्थिति देखने से साफ होता है कि शायद चीन को संयुक्त राष्ट्र की मंजूरी मिल गई थी.

 (साभार - न्यूज 18)

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi