S M L

मां का ब्वॉयफ्रेंड 13 साल के बेटे को दे रहा था 'जिहाद' की ट्रेनिंगः एफबीआई

इस ग्रुप में उन लोगों के साथ 5 युवक भी शामिल थे, उनके इस ठिकाने पर 3 अगस्त को छापेमारी की गई थी

Updated On: Sep 02, 2018 03:46 PM IST

FP Staff

0
मां का ब्वॉयफ्रेंड 13 साल के बेटे को दे रहा था 'जिहाद' की ट्रेनिंगः एफबीआई

13 साल के एक लड़के को पिछले महीने एफबीआई ने स्क्वालिड न्यू मेक्सिको से कस्टडी में लिया था. दरअसल उस लड़के की मां का ब्वॉयफ्रेंड उसे 'जिहाद' की ट्रेनिंग दे रहा था. इस बात का पता फेडेरल कोर्ट के दस्तावेजों से चला है. वह लड़का 11 अन्य लड़कों के साथ टाओस देश के एक इलाके में रह रहा था. इस ग्रुप में उन लोगों के साथ 5 युवक भी शामिल थे. उनके इस ठिकाने पर 3 अगस्त 2018 को छापेमारी की गई थी. स्थानीय पुलिस को वहां से कुछ भारी भरकम हथियार और बिना भोजन और पानी के रह रहे बच्चे बरामद हुए थे. बाद में पुलिस को वहां से एक तीन साल के बच्चे की लाश भी मिली थी जिसे जमीन में दफना दिया गया था.

एफबीआई ने बीते शुक्रवार को इस मामले में ग्रुप की लीडर बताई जा रही एक हैतीयन महिला, जैनी लेवीली (35) के साथ साथ 5 युवकों को गिरफ्तार किया है. इन पर जालसाजी और हथियार रखने का आरोप लगाया गया है. क्रिमनल कंप्लेंट करते हुए एक एफबीआई स्पेशल एजेंट ने लिखा कि जैनी लेवीली के 13 साल के लड़के ने पूछताछ के दौरान बताया कि उसकी मां का ब्वॉयफ्रेंड सिराज इब्न वहाज (40) उसे जिहाद की ट्रेनिंग दे रहा था और आर्मी में उसका दाखिला करवाना चाहता था.

13 साल के लड़के ने बताई जिहाद ट्रेनिंग की कहानी

उस लड़के ने एफबीआई को बताया कि सिराज उसे और उसके छोटे भाई को हथियार चलाने के साथ साथ मिलिट्री की अन्य तकनीकों की ट्रेनिंग भी दे रहा था. सिराज उन्हें जिहाद के बारे में बताता था और कहता था कि जो इस पर विश्वास नहीं करते अल्लाह की तरफ से उन्हें मार दो. उसने ये भी बताया कि उसकी मां को भरोसा था कि उन्हें भगवान के मैसेज आते हैं और वो उन्हें देख रहे हैं.13 साल के उस लड़के ने ये भी बताया कि कैसे सिराज ने उस 3 साल के बच्चे पर झाड़-फूंक किया जिसके चलते उस बच्चे ने बोलना बंद कर दिया और उसकी धड़कने रुक गईं.

सिराज ने उसे, उसकी मां को और वहां मौजूद सभी लड़कों को जमीन में दफन किए गए उस लड़के के बारे में किसी को भी बताने से साफ मना किया था. उसने कहा था कि अगर किसी ने भी मुंह खोला तो जेल जाना होगा. बचाव पक्ष के वकीलों ने कहा कि ग्रुप के 5 युवक अपने संवैधानिक अधिकारों का प्रयोग करते हुए अपने धर्म का पालन कर रहे थे. सभी हथियार उनके अपने थे. इस ग्रुप को दूसरे समुदाय से काला और मुसलमान कहकर अलग कर दिया गया था. वहीं स्टेट प्रौसिक्यूटर के अनुसार ये 5 युवक मई 2018 से एफबीआई के निशाने पर थे. जब लेवीली ने सिराज के भाई को चिट्ठी लिखकर उनके साथ जुड़ने को और शहीद होने को कहा तो उसके बाद से ही एफबीआई इन लोगों का पीछा कर रही थी. इन सभी को 4 सितंबर 2018 को कोर्ट में पेश किया जाएगा.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi