S M L

मोसाद का दावा, 50 साल बाद ढूंढ निकाली अपने मृत जासूस की घड़ी

यह घड़ी मोसाद ने सीरिया में हाल ही में एक खास अभियान में खोजी है. हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई कि कोहेन की घड़ी उन्हें कहां और किस हाल में मिली है

Updated On: Jul 07, 2018 06:08 PM IST

Bhasha

0
मोसाद का दावा, 50 साल बाद ढूंढ निकाली अपने मृत जासूस की घड़ी

इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद ने अपने जासूस एली कोहेन के सीरिया में पकड़े जाने और सरेआम फांसी पर लटकाए जाने के करीब 50 साल बाद उनकी घड़ी को ढूंढ निकालने का दावा किया है. घड़ी तलाशने के लिए एक खास अभियान चलाया गया था.

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा, ‘मैं मोसाद के लड़ाकों के मजबूत और बहादुरी पूर्ण अभियान की तारीफ करता हूं जिसका सिर्फ एक मकसद अपने महान जासूस की निशानी को इजराइल को वापस सौंपना था. जिसने देश को सुरक्षित बनाए रखने में अहम योगदान दिया था.’

जासूसी एजेंसी ने दावा किया कि यह घड़ी मोसाद ने सीरिया में हाल ही में एक खास अभियान में खोजी है. हालांकि इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई कि कोहेन की घड़ी उन्हें कहां और किस हाल में मिली है.

कोहेन की याद में कई हफ्ते पहले वार्षिक समारोह आयोजित किया गया था. माना जाता है कि मोसाद के निदेशक योस्सी कोहेन ने जासूस की यह घड़ी कोहेन के परिवार को सौंप दी है. कोहेन सीरिया में पकड़े जाने से पहले तक यही घड़ी पहनते थे. मोसाद ने कहा कि इस घड़ी को फिलहाल मोसाद मुख्यालय में डिस्प्ले में रखा गया है.

मिस्र में जन्मे कोहेन 1960 के दशक में मोसाद में भर्ती हुए थे. अरब जगत की खुफिया जानकारियां जुटाने के लिए वह सीरिया चले गए. कहा जाता है कि उनकी खुफिया जानकारियां ही 1967 अरब-इजरायल युद्ध में इजरायल की जीत की वजह बनी थी.

हालांकि सीरियाई सुरक्षा अधिकारियों ने 1964 में उनकी सच्चाई जान ली थी इसके बाद 18 मई 1965 को कोहेन को फांसी पर लटका दिया गया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi