S M L

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स नहीं हैं टेक फ्रेंडली फादर

ब्रिटेन के अखबार द मिरर को दिए इंटरव्यू में बिल गेट्स ने अपनी जिंदगी और परिवार से जुड़े राज खोले

Updated On: Apr 22, 2017 06:42 PM IST

FP Staff

0
माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स नहीं हैं टेक फ्रेंडली फादर

अगर आप मेरे जैसे नादान और भौतिकतावादी हैं तो मुझे यकीन है आपने यह सोचा होगा कि, दुनिया के सबसे अमीर इंसान की औलाद होना कैसा होता है. और बिल गेट्स पृथ्वी पर सबसे बड़ी आईटी कंपनी में से एक के सह-संस्थापक हैं. यकीनन उनके बच्चे विशालकाय विली वोंका कैंडीलैंड के टेक संस्करण में रहते हैं, है ना ?

टेक फ्रेंडली पिता के तौर पर पहचान नहीं

दरअसल, ब्रिटेन के अखबार द मिरर को दिए एक इंटरव्यू के मुताबिक, अरबपति बिल गेट्स की पहचान एक टेक फ्रेंडली पिता के तौर पर नहीं है. शुरूआत में उन्होंने अपने तीनों बच्चों- बेटियों जेनिफर और फोब तथा बेटे रोरी को 14 साल की उम्र तक स्मार्टफोन इस्तेमाल नहीं करने दिया. खाने के दौरान डिनर टेबल पर भी उन्होंने टैबलेट और स्मार्टफोन पर पाबंदी लागू कर रखा था.

बिल कहते हैं कि, अपने बच्चों के लिए उन्होंने स्क्रीन टाइम के लिए तय समय सीमा नहीं रखी है.

Bill Gates-Melinda Gates

बिल गेट्स और उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स की संस्था दुनिया भर में जरूरतमंद लोगों के लिए काम करती हैं (फोटो: पीटीआई)

अधिकतर हम उनके लिए समय तय कर देते हैं जिसके बाद 'नो स्क्रीन टाइम' लागू रहता है. इस तरह यह बच्चों को सही समय पर सोने में मददगार होता है. आप हमेशा सोचते हैं कि, इसका सबसे अच्छा उपयोग कैसे करें- होमवर्क और दोस्तों के साथ जुड़े रहने में- साथ ही यह जानने में भी कि, कब ये बहुत अधिक हो रहा है.

ज्यादा स्क्रीन टाइम बच्चों के लिए अच्छा नहीं 

ईमानदारीपूर्वक कहें तो, अभिभावक बिल गेट्स के नजरिए से शायद कुछ सीख सकें. क्योंकि इसपर जुटाए गए प्रमाण बताते हैं कि, ज्यादा स्क्रीन टाइम बच्चों के लिए अच्छा नहीं होता.

जैसा कि कहते हैं, तकनीक आज की आधुनिक दुनिया पर हावी है. जिस तरह यह लोगों को 'होमवर्क और दोस्तों से जोड़े रखने' से भी आगे ले जा रहा है. स्क्रीन का इस्तेमाल बच्चों के लिए शिक्षा और हर तरह की जानकारियों के लिए सबसे आसान जरिया है. अपनी बात कहूं तो, मेरा परिवार डिनर टेबल पर स्मार्टफोन इसलिए इस्तेमाल करता है क्योंकि हम नई फिल्मों, नई कहानियों, नई जानकारी पर लगातार बात करते रहते हैं और इस काम में स्मार्टफोन हमारा पूरा साथ देते हैं. इस पर बात करना बहुत हद तक बेहतर है.

गेट्स की लगाई पाबंदी अधिकतर जायज लगती है, लेकिन उस इंसान के लिए यह थोड़ा फरेबी भी है जो दुनिया के कुछ सबसे पॉपुलर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण बनाता है. जिसके बारे में बात करना पूरी तरह बेमानी सा लगता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi