S M L

Pok में पाक सरकार के खिलाफ प्रर्दशन, सड़कों पर उतरे लोग

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि ये इलाका आर्थिक रूप से काफी कमजोर है, कारोबारियों की आय कम है

FP Staff Updated On: Nov 18, 2017 05:39 PM IST

0
Pok में पाक सरकार के खिलाफ प्रर्दशन, सड़कों पर उतरे लोग

पाक अधिकृत कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान में शनिवार को पाकिस्तान के खिलाफ जोरदार प्रदर्शन हुआ, जिसमें प्रदर्शनकारियों ने अवैध टैक्स के खिलाफ विरोध जताया. हजारों लोग सड़कों पर उतरकर पाकिस्तान सरकार की नीतियों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.

प्रदर्शनकारियों का कहना है कि ये इलाका आर्थिक रूप से काफी कमजोर है. कारोबारियों की आय कम है. एक प्रदर्शनकारी ने कहा, 'क्या आप अपने घरों में रखे चिकन के लिए भी पाकिस्तान सरकार को टैक्स देंगे? क्या आप दूध के लिए घर में पाली गई गाय के लिए टैक्स चुकाएंगे?'

पाकिस्तान वसूल रहा है ज्यादा टैक्स

प्रदर्शनकारियों में ज्यादातर छोटे-बड़े कारोबारी शामिल रहे. बता दें कि अवैध टैक्स के विरोध में पूरे इलाके में आर्थिक गतिविधियां ठप हैं. बाजार बंद हैं. यहां के कारोबारियों का आरोप है कि पाकिस्तान सरकार दूसरे इलाकों के मुकाबले गिलगित-बाल्टिस्तान में ज्यादा टैक्स वसूल रही है.

एक अन्य कारोबारी ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए कहा, 'मैं कराची, क्वेटा, लाहौर और पाकिस्तान के अन्य इलाकों में रहने वाले गिलगित-बाल्टिस्तान के लोगों से अपील करता हूं कि वे तैयार रहें, हम टैक्स नहीं चुकाएंगे. अब ये लड़ाई इस्लामाबाद तक जाएगी.'

पाकिस्तान के खिलाफ कर रहें विरोध प्रदर्शन 

एक अन्य आंदोलनकारी ने इस्लाम का हवाला देते हुए कहा, 'इस्लाम का सिद्धांत है कि बिना अधिकारों के टैक्स नहीं लिया जा सकता. हमारा कोई प्रतिनिधित्व नहीं है, तो फिर हम टैक्स क्यों भरें.'

बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्तान में कई मुद्दों को लेकर लोग पाकिस्तान सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. इसके पहले पाकिस्तानी सरकार और सेना से नाराज लोगों ने 30 अक्टूबर को पीओके और गिलगित-बाल्टिस्तान में ब्लैक डे मनाया था.

22 अक्टूबर, 1947 को पाकिस्तानी सेना ने कबायलियों के भेष में अविभाजित जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ कर हमला बोला था. जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तानी हमले की 70वीं वर्षगांठ पर प्रदर्शनकारियों ने मुजफ्फराबाद, रावलकोट, कोटली, गिलगित, हजीरा और अन्य जगहों पर विरोध जताया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
International Yoga Day 2018 पर सुनिए Natasha Noel की कविता, I Breathe

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi