विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

पीएम मोदी की म्यांमार यात्रा: 'बड़े और कड़े' फैसले लेने से हम नहीं डरते

मोदी और आंग सान सू ने द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने के तौर तरीकों पर चर्चा की

FP Staff | September 06, 2017, 10:28 PM IST

0

हाइलाइट

Sep 6, 2017

  • 19:53(IST)
  • 19:50(IST)

    भारत और म्यांमर के बीच   B का रिश्ता है.  

    B से बिजनेस

    B से बॉलीवुड  

    B से भरतनाट्यम 

    B भरोसा, जो सबसे ज्यादा जरूरी है. 

  • 19:47(IST)
  • 19:47(IST)

    भारत का लोकतांत्रिक अनुभव म्यांमार के साथ शेयर करते हैं. म्यांमार के साथ सोशियो कल्चर शेयर करते हैं. म्यांमार के साथ अपने संबंध मजबूत करने के लिए हमने सभी म्यांमार नागरिकों को ग्रैटिस वीजा देने का फैसला किया है.  40 मछुआरों को रिहा करने का फैसला किया है, जो भारतीय जेलों में बंद है. 

  • 19:44(IST)

    एक चेकपोस्ट बनाया गया है, जिसके बाद मणिपुर और म्यांमार के बीच कारोबार करना आसान हो जाएगा. 

  • 19:43(IST)

    अब सारी दुनिया को भारत पर भरोसा है. नेपाल भूकंप, मालदीव संकट में हम मदद करने में पीछे नहीं रहे हैं. 

  • 19:41(IST)

    हमने अच्छे पड़ोसी का धर्म निभाया है. 

  • 19:41(IST)

    हमारे पास जो है उसे मिलबांटकर खाते हैं. हम जब मदद करते हैं तो पासपोर्ट का रंग नहीं पूछा करते. 

  • 19:40(IST)

    सिर्फ तीन महीने में 30 हजार कंपनियों का रजिस्ट्रेशन खत्म हुआ. ये फर्जी कंपनियां थी. नोटबंदी से लाखों टैक्स चोरों का पता चला. फर्जी कंपनियों के एकाउंट भी फ्रिज हुए.

  • 19:40(IST)

    पिछले तीन साल में एक नया बदलाव शुरू हुआ है. यह परिवर्तन का नया दौर है. हम मिनिमम गवर्मेंट और मैक्सिमम गवर्नेंस पर काम करते हैं. देश के लोगों का भरोसा लौटा है. इसका फायदा सिर्फ भारतीयों को ही नहीं बल्कि हर किसी के लिए है.  

  • 19:38(IST)

    देश के हित में हम कड़े और बड़े फैसले लेने से नहीं डरते. फिर चाहे सर्जिकल स्ट्राइक हो, नोटबंदी या फिर जीएसटी. हम बिना किसी डर से बड़े फैसले लेते हैं. मुट्ठी भर लोगों के भ्रष्टाचार की कीमत सवा करोड़ लोग उठा रहे थे. यह हमें मंजूर नहीं था. 

  • 19:35(IST)

    तटीय नगरों को जोड़ने के लिए सागर माला परियोजना तेजी से आगे बढ़ रही है. हम केबल फाइबर बिछाकर गांवों तक इंटरनेट की सुविधा दे रहे हैं. कृषि पर हम फोकस कर रहे हैं. स्वीट रेवोल्यूशन यानी मधुमक्खी पालन से भी काफी फायदा हो सकता है. ब्लू रेवोल्यूशन के जरिए मत्स्य पालन उद्योग को बढ़ावा दे रहे हैं.  

  • 19:35(IST)

    हमने संकल्प किया है. हम गरीबी मुक्त, सांप्रदायिकता मुक्त, जातिवाद मुक्त ... ड्रीम इंडिया बनाएंगे और बनाकर ही रहेंगे. आपसे भी यही कहूंगा कि न्यू इंडिया के महामिशन में आप भी शामिल हों. 19वीं शताब्दी के डिजाइन पर 21वीं सदी का इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं चल सकता. सोलर एनर्जी का सबसे बड़ा कार्यक्रम भारत में चल रहा है. इन पर जितना निवेश किया जा रहा है...ऐसा पहले कभी नहीं किया गया है. 

  • 19:31(IST)

    विदेश में फंसे और बसे लोगों के लि सुषमा स्वराज बेहद सक्रिय हैं. बिना हिचक लोग अपनी बात शेयर कर रहे हैं,  

  • 19:30(IST)
  • 19:29(IST)

    यहां आने से पहले मैंने नरेंद्र मोदी ऐप के जरिए सुझाव मांगे थे. आपकी तरफ से कई सुझाव मिले, जिसके लिए हम आपके आभारी है. 

  • 19:27(IST)

    दो दिन के दौरे पर म्यांमार गए हैं नरेंद्र मोदी 

  • 19:25(IST)

    आपका भारत है. सिर्फ भावनात्मक नहीं है. आप भारत के विकास से भी ठोस रूप से जुड़े हुए हैं. 

  • 19:24(IST)

     1857 की क्रांति से पहले बहादुर शाह जफर को भी दो गज जमीन इसी धरती पर मिली.

  • 19:24(IST)

    पिछले दिनों मैं जाफना गया. ऐसा पहली बार हुआ है जब कोई पीएम जाफना गया है. यहीं जेल में तिलक ने गीता रहस्य लिखा था. भारतीय मूल के लोगों से मिलकर मुझे अपनापन महसूस होता है. आप सब हमारे राजदूत है. आप जहां रहते हैं वहां विकास में योगदान देता है.

  • 19:20(IST)

    यह वो धरती है जहां से सुभाष चंद्र बोस ने कहा था, तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा. उनकी आवाज सुनकर भारत के कई लोग अपनी जान हथेली पर लेकर हाजिर हो गए. 

  • 19:18(IST)

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा

    हजारों साल से म्यांमार की सीमाएं ही नहीं बल्की भावनाएं भी एकदूसरे से जुड़ी हुई हैं. यह एक ऐसा देश है जिसने बौद्ध धर्म को संवारा है... सहेजा है. सैकड़ों साल से भी ज्यादा एक अटूट रिश्ते ररो पाला पोसा है. 

  • 19:17(IST)
  • 19:16(IST)

    प्रधानमंत्री म्यांमार में भारतीय मूल के लोगों को संबोधित कर रहे हैं

  • 19:16(IST)

    म्यांमार में यंगून में भारतीयों को संबोधित कर रहे हैं. यह म्यांमार का सबसे बड़ा शहर है. यहां तकरीबन 25,000 भारतीय रह रहे हैं.  

  • 19:14(IST)

    गणेशोत्सव की बधाई देते हुए भाषण की शुरुआत की 

पीएम मोदी की म्यांमार यात्रा: 'बड़े और कड़े' फैसले लेने से हम नहीं डरते

पीएम मोदी मंगलवार को म्यांमार पहुंचे और इसी दिन उन्होंने वहां के राष्ट्रपति यू तिन क्याव से मुलाकात की. क्याव के निमंत्रण पर ही मोदी म्यांमार पहुंचे हैं. मुलाकात में दोनों देशों के तमाम क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत करने के मुद्दे पर चर्चा हुई है. मोदी ने म्यांमार के राष्ट्रपति से मुलाकात को शानदार बताया. इस मुलाकात में उन्होंने दोनों पड़ोसी देशों के बीच ऐतिहासिक संबंधों को और मजबूत करने के कदमों पर चर्चा की.

मोदी ने किया ऐलान

इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा, 'म्यांमार के जो नागरिक भारत की सैर करना चाहते हैं, उन्हें ग्रेटिस वीजा दिया जाएगा और भारत की जेलों में बंद 40 म्यामांर वासियों को छोड़ दिया जाएगा.

रोहिंग्या मुसलमानों पर मोदी ने क्या कहा

पीएम मोदी ने कहा,'रोहिंग्या मुसलमानों के पलायन से हम भी चिंतित हैं. रोहिंग्या गैर कानूनी रूप से भारत में घुसते हैं. रोहिंग्या मुसलमानों का भारत आना बड़ी समस्या है. पड़ोसी होने के नाते हमारे हित एक समान है इसलिए म्यांमार में शांति के लिए भारत उसकी हर संभव मदद करेगा.

म्यांमार यात्रा से पहले क्या कहा 

मोदी ने अपनी यात्रा से पहले कहा था कि भारत और म्यांमार सुरक्षा, आतंकवाद, व्यापार एवं निवेश, अवसंरचना, ऊर्जा तथा संस्कृति जैसे क्षेत्रों में मौजूदा सहयोग को भी मजबूत करना चाहते.

पीएम मोदी बोलें राखिन प्रांत में हिंसा के मुद्दे पर भारत चिंतित है, जिसमें ढेर सारे लोगों की जानें गईं. जिन चुनौतियों का आप सामना कर रहे हैं.

आंग सान सू की ने क्या कहा

वहीं आंग सान सू की ने कहा कि आतंकी खतरे को लेकर मजबूत रुख अपनाने पर भारत का धन्यवाद व्यक्त करना चाहेंगे जिसका हाल में म्यांमार ने सामना किया.

हम मिलकर यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि आतंकवाद को हमारी धरती पर या हमारे पड़ोसियों की धरती पर जड़ें जमाने की अनुमति नहीं है.

क्या है मामला

म्यांमार के रखाइन प्रांत में हाल में रोहिंग्या मुसलमानों पर बड़े पैमाने पर अत्याचारों की खबरें सामने आ रही हैं. वहां से हजारों शरणार्थियों ने भाग कर बांग्लादेश में शरण ली है.

मोदी ने किन मुद्दों पर किया फोकस

-इस दौरे का मकसद आतंकवाद से मुकाबला और सिक्योरिटी के मसले पर दोनों देशों के बीच रोडमैप तैयार करना है.

-भारत ने इन घटनाओं पर चिंता जताते हुए इस राखाइन प्रांत में हालात पर काबू पाने के लिए म्यांमार सरकार को सहायता की पेशकश की है

-भारत पूर्वोत्तर के उग्रवादियों के लिए म्यामांर के दरवाजे बंद करने की मांग कर सकता है.

-मोदी अपने दौरे के दौरान म्यामांर की पूर्व राजधानी यंगून जाकर पुराने मंदिरों के संरक्षण के लिए भारत की आर्थिक सहायता का एलान करेंगे.

-भारत का निवेश महज दो अरब डॉलर ही है. अब प्रधानमंत्री के दौरे के दौरान निवेश के नए क्षेत्रों की तलाश पर भी जोर रहेगा.

-मोदी के दौरे के दौरान आधारभूत ढांचा, स्वास्थ्य, बिजली, ऊर्जा और विकास से जुड़ी परियोजनाओं से संबंधित कई समझौतों पर हस्ताक्षर की संभावना हैं.

-म्यांमार के शीर्ष नेताओं के साथ मोदी की बैठक में पूर्वोत्तर के आतंकवादी संगठनों की शरण और सहायता का मुद्दा भी उठ सकता है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi