S M L

देशद्रोह के मामले में मुशर्रफ को हो सकती है उम्र कैद की सजा

अगले महीने की शुरुआत में इस मामले की सुनवाई फिर से शुरू करेगी पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित तीन न्यायाधीशों वाली विशेष अदालत

Bhasha Updated On: Jun 30, 2018 02:45 PM IST

0
देशद्रोह के मामले में मुशर्रफ को हो सकती है उम्र कैद की सजा

पूर्व सैन्य शासक और तानाशाह परवेज मुशर्रफ के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने के लिए पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित तीन न्यायाधीशों वाली विशेष अदालत अगले महीने की शुरुआत में इस मामले की सुनवाई फिर से शुरू करेगी. मीडिया में आई एक खबर में आज यह जानकारी दी गई.

चिकित्सीय आधार पर देश छोड़कर मार्च 2016 से दुबई में रह रहे 74 वर्षीय मुशर्रफ पर तीन नवंबर , 2007 को संविधान को पलटने का मुकदमा चल रहा है. ‘द एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ समाचारपत्र की खबर के मुताबिक विशेष अदालत की अध्यक्षता कर रहे लाहौर हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश यावर अली देशद्रोह मामले की सुनवाई करने के लिए दो जुलाई से चार जुलाई तक इस्लामाबाद / रावलपिंडी में रहेंगे.

खबर में सूत्रों के हवाले से बताया गया कि इस मामले में सुनवाई पहले ही शुरू होनी थी लेकिन विशेष अदालत के एक सदस्य के देश से बाहर होने के कारण ऐसा नहीं हो सका.

सुप्रीम कोर्ट ने नवंबर 2013 में तत्कालीन पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज (पीएमएल-एन) सरकार के आग्रह पर एक विशेष अदालत का गठन किया था लेकिन इसके पूर्व अध्यक्ष और पेशावर हाई कोर्ट के प्रमुख न्यायाधीश यहिया अफरीदी के 29 मार्च को मामले की सुनवाई से खुद को अलग कर लेने के बाद इसका पुनर्गठन करना पड़ा था.

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने दो साल से संयुक्त अरब अमीरात में रह रहे मुशर्रफ को उनकी अयोग्यता को लेकर तलब किया था लेकिन उनके नहीं लौटने पर शीर्ष अदालत ने 25 जुलाई को होने वाले आम चुनावों में उनके भाग लेने पर रोक लगा दी.

देशद्रोह के मामले में दोषी पाए जाने पर सजा-ए-मौत या उम्रकैद की सजा हो सकती है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi