S M L

चीन के दौरे पर किम जोंग उन, परमाणु प्रसार रोकने का लिया संकल्प

इतिहास पर गौर करें तो उत्तर कोरियाई नेता की चीन और अपने पड़ोसी देशों की यात्रा हमेशा गोपनीय रही है

FP Staff Updated On: Mar 28, 2018 09:15 AM IST

0
चीन के दौरे पर किम जोंग उन, परमाणु प्रसार रोकने का लिया संकल्प

उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन ने अचानक चीन का दौरा किया है. मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, ऐसा माना जा रहा है कि एक विशेष ट्रेन से उत्तर कोरियाई नेता यहां पहुंचे हैं. वर्ष 2011 में सत्ता में आने के बाद यह किम जोंग-उन पहली विदेश यात्रा है. खबर है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ प्रस्तावित शिखर सम्मेलन से पहले उन्होंने चीन के शीर्ष नेतृत्व के साथ वार्ता की.

शिन्हुआ न्यूज के मुताबिक, अपने पहले विदेशी दौरे पर किम जोंग उन ने कहा कि उत्तर कोरिया अमेरिका के साथ वार्ता करना चाहता है और साथ ही दोनों देशों का समिट भी कराना चाहता है. साथ ही चीन और उत्तर कोरिया दोनों ने मिलकर परमाणु प्रसार रोकने का भी संकल्प लिया है. इसके अलावा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भी उत्तर कोरिया का निमंत्रण स्वीकार कर लिया है और अब जल्द ही जिनपिंग भी उत्तर कोरिया का दौरा करेंगे.

जापान की क्योदो समाचार एजेंसी ने कहा कि सोमवार दोपहर को चीन की राजधानी बीजिंग में उत्तर कोरिया का कोई हाई प्रोफाइल नेता पहुंचा. जापान के प्रसारणकर्ता निप्पॉन टीवी ने बीजिंग के एक स्टेशन पर एक ट्रेन की फुटेज दिखाई है. यह वैसी ही ट्रेन है जिससे किम के पिता किम जोंग इल विदेश यात्रा किया करते थे.

ऐसी भी रिपोर्टें है कि चीन-उत्तर कोरिया सीमा पर और एक गेस्टहाउस में भारी संख्या में सुरक्षाकर्मी मौजूद हैं. इस गेस्टहाउस में पहले भी उत्तर कोरियाई नेता ठहर चुके हैं. हांगकांग के अखबार साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक खबर के मुताबिक, हालांकि इस बात की पुष्टि नहीं हुई है कि यह नेता किम हैं लेकिन सुरक्षा इंतजामों को देखकर ऐसा लग रहा है कि जरूर कोई बड़ा नेता है.

इतिहास पर गौर करें तो उत्तर कोरियाई नेता की चीन और अपने पड़ोसी देशों की यात्रा हमेशा गोपनीय रही है. हाल ही में उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को लेकर कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव बढ़ गया है. चीन लंबे समय से उत्तर कोरिया का सहयोगी रहा है. लेकिन चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों को लागू करने के बाद से दोनों देशों के रिश्तों में तनाव पैदा हो गया है. अमेरिका के दबाव के बाद चीन ने उत्तर कोरिया को तेल और कोयला जैसी जरूरी चीजों की आपूर्ति रोक दी थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
SACRED GAMES: Anurag Kashyap और Nawazuddin Siddiqui से खास बातचीत

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi