S M L

खशोगी हत्याकांड: तुर्की का सऊदी अरब के खिलाफ सख्त रुख, कहा, करें संदिग्धों का प्रत्यर्पण

ब्यूनस आयर्स में हुए जी-20 शिखर सम्मेलन में तुर्की के नेता ने सऊदी वली अहद (क्राउन प्रिंस) मोहम्मद बिन सलमान के खिलाफ कड़ा रुख जाहिर किया

Updated On: Dec 02, 2018 10:57 AM IST

Bhasha

0
खशोगी हत्याकांड: तुर्की का सऊदी अरब के खिलाफ सख्त रुख, कहा, करें संदिग्धों का प्रत्यर्पण

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने शनिवार को सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के संदिग्धों के प्रत्यर्पण की मांग की है. तुर्की का कहना है कि सऊदी अरब जांच में सहयोग नहीं कर रहा है. ब्यूनस आयर्स में हुए जी-20 शिखर सम्मेलन में तुर्की के नेता ने सऊदी वली अहद (क्राउन प्रिंस) मोहम्मद बिन सलमान के खिलाफ कड़ा रुख जाहिर किया, इस सम्मेलन के जरिए सलमान की अंतरराष्ट्रीय मंच पर वापसी हुई है.

सऊदी अरब ने 18 नागरिकों को हिरासत में लेने की घोषणा की है साथ ही खशोगी की मौत मामले की जांच का प्रण लिया है. सऊदी अरब के शाही परिवार के करीबी से आलोचक बने खशोगी तुर्की के इ्स्तांबुल शहर में अपनी शादी के लिए दस्तावेज संबंधी काम कराने सऊदी अरब दूतावास गए थे लेकिन वापस नहीं लौटे.

जब तक अपराधियों का पता नहीं लगता,तब तक पूरी दुनिया और इस्लामिक समुदाय को संतेाष नहीं मिलेगा

एर्दोआन ने संवाददाताओं से कहा, 'यह जरूरी है कि इन लोगों के खिलाफ तुर्की में मुकदमा चलाया जाए ताकि अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की ओर कोई भी प्रश्न उठने की गुंजाइश को दूर किया जा सके.' उन्होंने कहा, ‘हिंसक वारदात का आदेश देने और इसे अंजाम देने वालों का पता लगाया जाना चाहिए. जब तक अपराधियों का पता नहीं लगाया जाए, तब तक पूरी दुनिया और इस्लामिक समुदाय को संतेाष नहीं मिलेगा.'

वहीं जी-20 सम्मेलन में ट्रंप ने सऊदी अरब के साथ अमेरिकी संबंध का बचाव किया था जबकि तुर्की के राष्ट्रपति खशोगी हत्या के मामले में सऊदी अरब पर दबाव बनाए हुए हैं. दो अक्टूबर को तुर्की में सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास में जमाल खशोगी की हत्या के बाद उनके शव के टुकड़े कर दिए गए थे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi