S M L

खशोगी की हत्या का ऑडियो टेप सामने, शरीर के टुकड़े-टुकड़े करने की सुनाई दी आवाज

ऑडियो टेप से पचा चला है कि खशोगी ने मरने से पहले कहा था कि 'मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं'

Updated On: Dec 10, 2018 10:46 AM IST

FP Staff

0
खशोगी की हत्या का ऑडियो टेप सामने, शरीर के टुकड़े-टुकड़े करने की सुनाई दी आवाज

सऊदी पत्रकार जमाल खरोशी की हत्या से जुड़ा एक टेप सामने आया है. इस टेप में उनकी हत्या किए जाने के दौरान उनके आखिरी शब्दों का पता चला है. 'मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं..' यही वो आखिरी शब्द थे जो जमाल खशोगी ने मरने से पहले कहे थे. जांच से जुड़े एक सूत्र ने इस बात की जानकारी दी है.

सूत्र ने खशोगी की दर्दनाक हत्या के दौरान रिकॉर्ड ऑडियो की ट्रांसक्रिप्ट का ट्रांसलेशन पढ़ा. इसके अनुसार 2 अक्टूबर को खशोगी की हत्या अचनाक हुई घटना नहीं, बल्कि इसे पहले से प्लानिंग के तहत अंजाम दिया गया था. सूत्र ने CNN को बताया कि ट्रांसक्रिप्ट के ट्रांसलेशन से साफ है कि हत्या पूर्व नियोजित थी और इस संबंध में पल-पल की जानकारी देने के लिए कई फोन भी किए गए थे. CNN ने कहा कि तुर्की अधिकारियों का मानना है कि ये फोन रियाद में शीर्ष अधिकारियों को किए गए थे और ट्रांसक्रिप्ट के अनुसार खशोगी ने अपने आखिरी क्षणों में काफी जिद्दोजहद की थी.

सूत्र ने बताया कि ऑडियो टेप से पता चलता है कि खशोगी उन्हें मारने के लिए पहुंचे लोगों से संघर्ष कर रहे थे. इसी दौरान उन्होंने कहा था, 'मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं.'

इसके अलावा इस ऑडियो टेप में खशोगी के शरीर के टुकड़े-टुकड़े करने की आवाज भी सुनाई दे रही है. हत्या के दौरान ये आवाज बाहर न जाए इसलिए हत्यारों को म्यूजिक बजाने की सलाह दि गई थी.

न्यूज 18 की रिपोर्ट के मुताबिक सूत्रों ने बताया है कि एमबीएस ने खशोगी की हत्या का आदेश खुद दिया था. इस खुलासे के बाद ट्रंप प्रशासन पर दबाव बढ़ने की संभावना है. ट्रंप प्रशासन ने हत्या से क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (एमबीएस) का संबंध न जोड़ने का फैसला किया है. इस मुद्दे को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का सीआईए के साथ भी मतभेद चल रहा है.

इसी के साथ यह खुलासा जमाल खशोगी की हत्या को लेकर सऊदी सरकार द्वारा शुरुआत में दिए गए स्पष्टीकरण पर भी सवाल खड़े करता है. इस खुलासे से पता चलता है कि यह एक ऑपरेशन था जो बुरी तरह फेल हो गया.

इस बीच, सऊदी अरब के विदेश मंत्री ने खशोगी की हत्या के संदिग्धों को प्रत्यर्पित करने की तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन की मांग को रविवार को खारिज कर दिया. तुर्की के अनुसार सऊदी के 15 सदस्यीय दल को खशोगी की हत्या के लिए इस्तांबुल भेजा गया था.

 

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi