S M L

साउथ अफ्रीका में गुप्ता ब्रदर्स से क्यों हैं सब परेशान!

गुप्ता ब्रदर्स ने तत्कालीन प्रेसिडेंट जैकब जुमा के साथ अपनी दोस्ती का फायदा उठाकर जमकर पैसा कमाया है

Updated On: Feb 23, 2018 09:13 AM IST

FP Staff

0
साउथ अफ्रीका में गुप्ता ब्रदर्स से क्यों हैं सब परेशान!

क्या आप इस बात पर यकीन करेंगे कि दक्षिण अफ्रीका में गुप्ता ब्रदर्स की चांदी है. यह सच है. दक्षिण अफ्रीका में पिछले कई साल से अजय गुप्ता, अतुल गुप्ता और राजेश गुप्ता अपना कारोबार कर रहे हैं. इनके कारोबार की पहुंच का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि ये वहां के सबसे बड़े कारोबारी हैं. तब के राष्ट्रपति जैकब जुमा इनके अच्छे दोस्त हैं और कहा यह जाता है कि इन लोगों ने उनकी दोस्ती को जमकर भुनाया है. अब दक्षिण अफ्रीका के नए राष्ट्रपति रामाफोसा हैं. 15 फरवरी को इनका चयन हुआ था.

क्या है आरोप?

गुप्ता ब्रदर्स के राजनीतिक दबदबे का दक्षिण अफ्रीका में कोई तोड़ नहीं है. उनकी मनमानी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक निजी शादी समारोह में मेहमानों को हेलिकॉप्टर से लाने के लिए हाई सिक्योरिटी मिलिट्री बेस पर एयरक्राफ्ट लैंड करवाया गया. अपने सहयोगियों को सरकारी कंपनियों में ऊंचे ओहदे पर बिठाया. इतना ही नहीं कैबिनेट की नियुक्तियों को प्रभावित करने का प्रयास किया. गुप्ता ब्रदर्स पर टैक्सपेयर का पैसा लूटने का भी आरोप है. ऐसा नहीं है कि ये सब करने के बाद इनके खिलाफ जांच शुरू नहीं हुई है. जांच चल रही है लेकिन उसका कोई नतीजा नहीं निकल रहा है.

सबसे बड़ा बिजनेस एंपायर

1990 के दशक में गुप्ता ब्रदर्स दक्षिण अफ्रीका गए थे. वहां माइनिंग के कारोबार में इनकी दिलचस्पी थी. गुप्ता ने जमकर पैसा कमाया. प्राइवेट जेट खरीदा और केपटाउन से लेकर दुबई तक मैंसन खरीदे. गुप्ता को तब के राष्ट्रपति जैकब जुमा का जमकर सपोर्ट मिला. इस बात का सबूत यही है कि गुप्ता के कारोबार में जुमा के बेटे डुडुजेन पार्टनर हैं. गुप्ता ने उनकी चार पत्नियों में से एक को नौकरी भी दी है.

2013 में गुप्ता का नाम दक्षिण अफ्रीका के घर-घर में लिया जाने लगा. तब गुप्ता ब्रदर्स को शादी के एक निजी समारोह के लिए वाटरलूफ एयरफोर्स बेस मुहैया करा दिया गया था ताकि वे अपने मेहमानों का हेलिकॉप्टर उतार सकें. गुप्ता ब्रदर्स की बदनामी 2016 में उस वक्त और बढ़ गई जब तत्कालीन डिप्टी फाइनेंस मिनिस्टर मैक्बिसी जोनास ने कुछ गंभीर आरोप लगाए. जोनास का आरोप था कि गुप्ता ब्रदर्स ने कारोबार से जुड़ी छूट के बदले उन्हें फाइनेंस मिनिस्टर बनाने का ऑफर दिया है. उनका कहना था  कि गुप्ता ब्रदर्स ने कहा है कि डुडुजेन के साथ मीटिंग में वह ये करा लेंगे. वैसे यह अलग बात है कि जुमा और गुप्ता ने इस बात से साफ इनकार कर दिया कि उन्होंने कोई गड़बड़ी की है.

पिछले साल जून में अमाभुनगाने सेंटर फॉर इनवेस्टिगेटिव जर्नलिज्म और डेली मावरिक वेबसाइट्स ने कथित तौर पर गुप्ता लीक्स का खुलासा किया. गुप्ता के ईमेल से करीब 10 लाख इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट्स जुटाए. इन डॉक्यूमेंट्स से जुड़ी जानकारियों से यह पता लगा है कि गुप्ता ब्रदर्स के पार्टनर कौन हैं. उनके सप्लायर एग्रीमेंट्स, मनी लॉन्ड्रिंग और नेताओं से लिए फायदों का जिक्र है. हालांकि अब जैकब जुमा की विदाई के बाद गुप्ता ब्रदर्स का साम्राज्य हिलने वाला है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
#MeToo पर Neha Dhupia

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi