S M L

इंडोनेशिया: ज्वालामुखी विस्फोट के बाद सुनामी ने मचाई तबाही, 168 लोगों की मौत, 600 से ज्यादा घायल

इंडोनेशियाई अधिकारियों ने बताया कि क्रैकटो ज्वालामुखी के 'चाइल्ड' कहे जाने वाले अनक ज्वालामुखी के फटने से यह सुनामी आई है

Updated On: Dec 23, 2018 12:47 PM IST

FP Staff

0
इंडोनेशिया: ज्वालामुखी विस्फोट के बाद सुनामी ने मचाई तबाही, 168 लोगों की मौत, 600 से ज्यादा घायल

इंडोनेशिया में आए सुनामी की वजह से अब तक 168 लोगों की मौत हो गई है जबकि 600 से ज्यादा लोग घायल बताए जा रहे हैं. अधिकारियों ने रविवार सुबह यह जानकारी देते हुए बताया कि क्रैकटो ज्वालामुखी के 'चाइल्ड' कहे जाने वाले अनक ज्वालामुखी के फटने से समुद्र के नीचे भूस्खलन हुआ जिससे यह सुनामी आई.

खबर है कि जावा के दक्षिणी छोर और दक्षिणी सुमात्रा के तटों पर आई सुनामी की लहरों से दर्जनों इमारतें तबाह हो गई हैं. नेशनल डिजास्टर एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पुर्वो नुग्रोहो ने बताया कि सुनामी स्थानीय समयानुसार बीते शनिवार रात करीब 9:30 बजे आई थी.

सुनामी का असर जावा के बानतेन प्रांत स्थित पंडेगलांग इलाके पर पड़ा

प्रवक्ता ने कहा, 62 लोगों की मौत हुई है. करीब 600 लोग इस आपदा में घायल हुए हैं और 2 लोग लापता हैं. इस आपदा के चश्मदीद ओएस्टीन एंडरसन ने फेसबुक पर लिखा, 'मैं ज्वालामुखी की तस्वीरें ले रहा था, तभी समुद्र में उठ रही ऊंची-ऊंची लहरें जमीन पर 15-20 मीटर अंदर तक पहुंच गईं. इसे देखकर मुझे वहां से भागना पड़ा.'वह कहते हैं, 'अगली लहर होटल एरिया तक जा पहुंचीं और सड़कों व कारों को तहसनहस कर दिया. किसी तरह मैं अपने परिवार के साथ वहां से निकलने में कामयाब रहा और जंगल के रास्ते ऊंचे इलाके तक पहुंच गया. शुक्र है कि हम सब ठीक-ठीक है.'

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस सुनामी का सबसे ज्यादा असर जावा के बानतेन प्रांत स्थित पंडेगलांग इलाके पर पड़ा है. मृतकों में शामिल 33 लोग इसी इलाके के रहने वाले हैं.

 मौत का आंकड़ा और अधिक बढ़ सकता है

अधिकारियों का कहना है कि अनक के फटने की वजह से समुद्र के अंदर लैंडस्लाइड हुआ और लहरों में असामान्य परिवर्तन आया, जिसने सुनामी का रूप ले लिया. इंडोनेशिया की जियोलॉजिकल एजेंसी सुनामी के कारणों का पता लगाने में जुट गई है. नुग्रोहो ने कहा कि मौत का आंकड़ा और अधिक बढ़ सकता है.

बता दें कि अनक क्रैकटो एक छोटा वॉल्कैनिक आइलैंड है जो कि 1883 में क्रैकटो ज्वालामुखी के फटने के बाद अस्तित्व में आया था. इससे पहले सितंबर महीने में सुलावेसी द्वीप स्थित पालू शहर में सुनामी की वजह से कम से कम 832 लोगों की मौत हो गई थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi