S M L

नहीं रहे नोबेल विजेता और भारतीय मूल के मशहूर लेखक वी एस नायपॉल

शनिवार को नायपॉल के परिवार ने 85 वर्ष की उम्र में उनका निधन होने की घोषणा की

FP Staff Updated On: Aug 12, 2018 11:35 AM IST

0
नहीं रहे नोबेल विजेता और भारतीय मूल के मशहूर लेखक वी एस नायपॉल

भारतीय मूल के नोबेल पुरस्कार विजेता और लेखक वी एस नायपॉल का 85 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है. शनिवार को नायपॉल के परिवार ने उनके निधन की घोषणा की.

साल 1971 में 39 की उम्र में वी एस नायपॉल को बुकर प्राइज मिला था, और साल 2001 में वो साहित्य के क्षेत्र में नोबेल प्राइज विजेता बने.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वी एस नायपॉल के निधन पर शोक प्रकट किया है.

कौन थे वी एस नायपॉल?

वी एस नायपॉल का पूरा नाम विद्याधर सूरजप्रसाद नायपॉल है. उनका जन्म 17 अगस्त, 1932 को कैरेबियाई देश त्रिनिडाड के चगवानस में हुआ था. उन्होंने अपनी पढ़ाई-लिखाई त्रिनिडाड में ही रहकर की थी. बाद में उन्होंने प्रतिष्ठित ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से पढ़ाई की.

नायपॉल की पहली किताब 'द मिस्टिक मैसर' साल 1951 में प्रकाशित हुई थी. नायपॉल की सबसे चर्चित उपन्यास 'ए हाउस फॉर मिस्टर बिस्वास' है. इसे लिखने में उन्हें 3 साल से भी ज्यादा वक्त लगा.

वी एस नायपॉल एक क्रांतिकारी लेखक थे. खुलकर लिखने और बोलने के पैरोकारी थे. एक बार उन्होंने कहा कि 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस उचित थी. बाबरी मस्जिद का निर्माण भारतीय संस्कृति पर हमला था, जिसे ढहाकर ठीक कर दिया गया. उन्होंने यह विचार भी रखा कि जिस तरह स्पेन ने अपने राष्ट्रीय स्मारकों का पुनर्निर्माण कराया है, वैसा ही भारत में भी होना चाहिए.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi