S M L

भारत की तरफ दोस्ती का प्रस्ताव कमजोरी के तौर पर न आंके: इमरान खान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि भारत के साथ इस्लामाबाद के दोस्ती के प्रस्ताव को उसकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए

Updated On: Sep 23, 2018 10:16 PM IST

Bhasha

0
भारत की तरफ दोस्ती का प्रस्ताव कमजोरी के तौर पर न आंके: इमरान खान

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि भारत के साथ इस्लामाबाद के दोस्ती के प्रस्ताव को उसकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए और भारतीय नेतृत्व को अहंकार त्याग कर शांति वार्ता करनी चाहिए. खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक खत लिखा था जिसमें आतंकवाद और कश्मीर समेत अहम मुद्दों पर द्विपक्षीय वार्ता फिर से शुरू करने की बात कही गई थी.

दरअसल, भारत ने इस महीने न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा के इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और उनके पाकिस्तानी समकक्ष शाह महमूद कुरैशी के बीच बातचीत के लिए शुरुआती सहमति भी दे दी थी. लेकिन जम्मू-कश्मीर में तीन पुलिसकर्मियों की बर्बर हत्या और इस्लामाबाद के आतंकवादी बुरहान वानी का महिमामंडन करते हुए डाक टिकट जारी करने का हवाला देते हुए भारत ने इस बैठक को रद्द कर दिया था. जिसके कारण अब सुषमा स्वराज पाकिस्तान के विदेश मंत्री से मुलाकात नहीं करेंगी.

इस पर इमरान खान ने कहा 'मुझे उम्मीद है कि भारतीय नेतृत्व अहंकार छोड़ेगा और पाकिस्तान के साथ (शांति) वार्ता करेगा. हमारे दोस्ती के प्रस्ताव को हमारी कमजोरी के तौर पर नहीं देखा जाना चाहिए. पाकिस्तान और भारत के बीच दोस्ती गरीबी से पार पाने में मदद करेगी.' खान ने कहा 'पाकिस्तान को धमकी नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि वह दुश्मनी के किसी भी कृत्य को बर्दाश्त नहीं करेगा.' इमरान खान ने कहा, 'दोस्ती दोनों देशों के हित में है. हम किसी भी विश्व शक्ति के दबाव में नहीं आएंगे.'

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Jab We Sat: ग्राउंड '0' से Rahul Kanwar की रिपोर्ट

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi