S M L

H1-B वीजा के लिए आज से आवेदन शुरू, लेकिन इन बातों का रखें ध्यान

इसबार आवेदन प्रक्रिया में काफी कड़ाई होने वाली है. ये आशंका जताई जा रही है कि काफी बड़ी संख्या में आवेदन रद्द किए जाएंगे

Updated On: Apr 02, 2018 10:28 AM IST

FP Staff

0
H1-B वीजा के लिए आज से आवेदन शुरू, लेकिन इन बातों का रखें ध्यान

आखिरकार अमेरिकी एच-1बी वीजा की आवेदन प्रक्रिया शुरू हो रही है. सोमवार यानी 2 अप्रैल से इसके लिए अप्लाई किया जा सकता है लेकिन इसबार आवेदन प्रक्रिया में काफी कड़ाई होने वाली है. ये आशंका जताई जा रही है कि काफी बड़ी संख्या में आवेदन रद्द किए जाएंगे. एच -1 बी वीज़ा स्किल्ड भारतीय प्रोफेशनल्स के बीच काफी लोकप्रिय है.

2 अप्रैल से यूनाइटेड स्टेट्स सिटीजनशिप एंड इमिग्रेशन सर्विसेज (USCIS) 2018-2019 सत्र के लिए एच-1बी वीजा के आवेदन की प्रक्रिया शुरू करेगा. ट्रम्प प्रशासन ने संकेत दिए हैं कि इस बार एप्लिकेशन की सख्ती से जांच की जाएगी.

इन वजहों से रद्द हो सकता है आवेदन

USCIS ने इस बात के संकते दिए हैं कि मामूली गलती के चलते भी एप्लिकेशन खारिज हो सकती है. अगर आप बार-बार एच -1 बी वीजा के लिए अप्लाई करेंगे तो भी आपकी एप्लिकेशन खारिज हो सकती है. यूएस सिटीजनशिप और इमिग्रेशन सर्विसेस ने कहा है कोई भी शख्स किसी कपंनी की ओर से एक विषय के तहत ही फॉर्म भर सकता है. कई बार ऐसा होता है कि कोई कर्मचारी एक ही कपंनी की तरफ से अलग-अलग जॉब पोजीशन के लिए अप्लाई करता है, जिससे कि एच -1 मिलने की संभावनाएं बढ़ जाए, इसलिए USCIS ने कहा है कि ऐसी आवेदनकर्ता इन गलतियों से बचें.

USCIS के मुताबिक फॉर्म पर डेट ऑफ ज्वाइनिंग या फिर 'यथासंभव शीघ्र' (ASAP) जैसे शब्दों का जिक्र करने से भी एप्लिकेशन खारिज कर दिए जाएंगे. अभी तक ये साफ नहीं हो पाया है कि एच -1 बी वीजा के लिए ड्रॉ निकाला जाएगा या नहीं.

देना होगा इन सवालों का जवाब

इस बार वीजा आवेदकों को विभिन्न सोशल मीडिया के यूजरनेम और मौजूदा फोन नंबर की जानकारी समेत पिछले पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए सभी मोबाइल नंबरों की भी जानकारी देनी होगी.

दस्तावेज में कहा गया है कि इनके अलावा लोगों से पिछले पांच साल के दौरान इस्तेमाल किए गए सारे ईमेल आईडी और विदेशी यात्राओं की जानकारी देनी होगी. उन्हें यह भी बताना होगा कि उन्हें किसी देश से निकाला तो नहीं गया था या उनके परिवार का कोई सदस्य आतंकवादी गतिविधियों में संलिप्त तो नहीं था.

क्या एच1बी वीजा?

एच1बी वीजा ऐसे विदेशी प्रोफेशनल्स के लिए जारी किया जाता है जो किसी 'खास' काम में कुशल होते हैं. इसके लिए आम तौर उच्च शिक्षा की जरूरत होती है. कंपनी को नौकरी करने वाले की तरफ से एच 1 बी वीजा के लिए इमिग्रेशन विभाग में आवेदन करना होता है. ये व्यवस्था 1990 में तत्कालीन राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने शुरू की थी. पिछले साल अमरीका ने एच-1 बी वीजा के लिए दो लाख से अधिक आवेदन प्राप्त किए थे.

हर वित्तीय वर्ष में 65,000 एच 1-बी वीज़ा देने का प्रावधान है. अमेरिका से मास्टर डिग्री लेने वाले पहले 20,000 एप्लिकेशन इसमें नहीं आते हैं.

बढ़ा है विरोध

जब से ट्रंप सत्ता में आए हैं, एच-1बी वीजा का विरोध बढ़ा है. उन्होंने भी अपने चुनावी कैंपेन में अमेरिकी नौकरियों की आउटसोर्सिंग रोकने और विदेशी प्रोफेशनल्स को मिलती नौकरियों को अमेरिकी लोगों को देने का वादा किया था. उन्होंने एच-1बी को रद्द न करके आवेदन की प्रक्रिया को कड़ा करने का निर्देश दिया है, जिसका काफी विरोध हो रहा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi