S M L

भ्रष्टाचार केस में पूर्व पाक पीएम नवाज शरीफ को 10 तो बेटी को 7 साल की सजा

शरीफ ने जवाबदेही अदालत से अपील की थी इस केस में बाद में सुनवाई की जाए. शरीफ फिलहाल लंदन में अपनी पत्नी का इलाज करवा रहे हैं. लेकिन अदालत ने उनकी दलीलों को खारीज कर दिया

Updated On: Jul 06, 2018 06:29 PM IST

FP Staff

0
भ्रष्टाचार केस में पूर्व पाक पीएम नवाज शरीफ को 10 तो बेटी को 7 साल की सजा
Loading...

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को एवनफील्ड रेफरेंस केस में कोर्ट ने 10 साल की सजा सुनाई है. उनकी बेटी मरियम को 7 साल की सजा सुनाई गई है. यह मामला लंदन के रिहायशी एवनफील्ड हाउस में 4 मकानों के स्वामित्व से जुड़ा हुआ है.

इस फैसले के बाद नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके मीडिया को संबोधित किया.

शहबाज शरीफ ने कहा कि हम सभी कानूनी और संवैधानिक उपायों द्वारा न्याय की लड़ाई जारी रखेंगे. नवाज शरीफ ने यह लड़ाई बहुत ही बहादुरी के साथ लड़ी है.

उन्होंने कहा कि चुनाव में पीएमएलएन के सभी उम्मीदवार चुनाव प्रचार के दौरान इस फैसले को उठाएंगे और लोगों को हमारे साथ हुए अन्याय के बारे में बताएंगे और हमें इस फैसले से निराशा हुई है.

इस मामले में नवाज शरीफ के दामाद सफदर को एक साल की सजा सुनाई गई है. कोर्ट ने इस मामले में शरीफ समेत उनकी बेटी और दमाद पर 8 मिलियन पाउंड का जुर्माना भी लगाया है.

अदालत के इस फैसले के बाद इस्लामाबाद में तनाव का माहौल है. पाकिस्तानी अखबार 'डॉन' के मुताबिक, शहर में धारा 144 लगा दी गई है. इलाके में कैपिटल फोर्स और रेंजर्स की तैनाती की गई है. कोर्ट के इस फैसले के बाद मरियम नवाज अब चुनाव भी नहीं लड़ पाएगी, जो पीएमएल-एन के टिकट से एनए-127 संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ने जा रही थी.

शरीफ ने जवाबदेही अदालत से अपील की थी इस केस में बाद में सुनवाई की जाए. शरीफ फिलहाल लंदन में अपनी पत्नी का इलाज करवा रहे हैं. लेकिन अदालत ने उनकी दलीलों को खारीज कर दिया और कहा कि मामले में फैसला शुक्रवार को ही आएगा. इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि इस मामले की सुनवाई एक महीने के अंदर पूरी की जाए.

कोर्ट का यह फैसला पाकिस्तान में होने वाले 25 जुलाई के आम चुनाव से कुछ हफ्ते पहले ही आया है. देश में चर्चा चल रही है कि सेना राजनीति में हस्तक्षेप कर रहा है और मीडिया में भी दखल दे रहा है. मरयम नवाज शरीफ आने वाले आम चुनाव में उम्मीदवार भी थीं. अदालत ने उनकी उम्मीदवारी को भी बर्खास्त कर दिया है.

भ्रष्टाचार निरोधक अदालत को अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके परिवार के खिलाफ कार्यवाही को एक माह के भीतर समाप्त करने का निर्देश दिया था. पिछले साल जुलाई में सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोग्य ठहराये जाने के बाद 68 वर्षीय शरीफ और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ तीन मुकदमे शुरू किए गए थे.

पिछले साल अदालत ने इन मामलों की सुनवाई पूरी करने के लिए छह महीने की समयसीमा तय की थी. इस मियाद को बाद में इस साल मार्च में दो महीने के लिए और मई में एक महीने के लिए बढ़ा दिया गया था.

0
Loading...

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
फिल्म Bazaar और Kaashi का Filmy Postmortem

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi