S M L

क्या फेसबुक के फर्जीवाड़े से ट्रंप बने थे अमेरिका के राष्ट्रपति!

यूरोपीय संघ ने सूचनाओं की चोरी के मामले में फेसबुक के खिलाफ जांच तेज करने की वकालत की

Updated On: Mar 21, 2018 10:34 AM IST

Bhasha

0
क्या फेसबुक के फर्जीवाड़े से ट्रंप बने थे अमेरिका के राष्ट्रपति!

यूरोपीय संघ ने सूचनाओं की चोरी के मामले में फेसबुक के खिलाफ जांच तेज करने की वकालत की. ब्रिटेन ने भी इस मामले में फेसबुक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग से सपष्टीकरण की मांग की है. यह मामला अमेरिकी राष्ट्रपति पद के 2016 चुनावी अभियान से जुड़ा है. डोनाल्ड ट्रंप का अभियान संभाल रही ब्रिटिश कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका ने फेसबुक के पांच करोड़ सदस्यों से जुड़ी जानकारियों का दुरुपयोग किया था.

संघ की न्याय आयुक्त वेरा जोउरोवा ने अमेरिका के इस सप्ताह के दौरे में फेसबुक से स्पष्टीकरण की मांग की है. उन्होंने सूचनाओं की चोरी के इस मामले को भयावह करार दिया था. यूरोपीय संसद के ब्रेक्जिट समन्वयक और बेल्जियम के पूर्व प्रधानमंत्री गाय वर्होफ्स्टैड ने भी इस मामले में जांच की मांग की है. उन्होंने ट्वीट किया, 'मार्क जुकरबर्ग कब यह बताने जा रहे हैं कि हमारी सूचनाओं के साथ क्या हुआ? सूचनाओं की चोरी शर्मनाक है. यूरोपीय संसद को निश्चित ही जांच शुरू करनी चाहिए. मैं आपको इसकी प्रगति की जानकारी देता रहूंगा.'

ब्रिटेन के सांसदों ने भी इस मामले में मार्क जुकरबर्ग से संसदीय समिति के सामने सफाई पेश करने को कहा था. लंदन से प्राप्त जानकारी के अनुसार, ब्रिटेन की एक संसदीय समिति ने मार्क जुकरबर्ग से पेश होने और चुनावी अभियान में इस्तेमाल के लिए सूचनाओं की चोरी के दावे पर स्पष्टीकरण देने को कहा. हाउस ऑफ कॉमंस के चेयरमैन( डिजिटल, कल्चरल, मीडिया एंड स्पोर्ट कमिटी) डैमियन कॉलिन्स ने इस संबंध में जुकरबर्ग को पत्र भेजा है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi