S M L

लगभग 2 दशक बाद इरिट्रिया ने इथोपिया में फिर से खोला दूतावास

इथोपिया के नए प्रधानमंत्री अबी अहमद ने पिछले महीने शांति की दिशा में कदम उठाते हुए यूएन के सीमा निर्धारण को मानते हुए इरिट्रिया को अपने कब्जे वाली जमीन सौंपने की घोषणा की थी

Updated On: Jul 16, 2018 08:19 PM IST

FP Staff

0
लगभग 2 दशक बाद इरिट्रिया ने इथोपिया में फिर से खोला दूतावास

इथोपिया और इरिट्रिया ने एक-दूसरे के राजदूतों को सीमा विवाद के चलते अपने-अपने देशों से निकाल दिया था. 1998 से 2000 के बीच दोनों देशों के बीच चले सीमा युद्ध में लगभग 80,000 लोग मारे गए थे. इरिट्रिया के राष्ट्रपति आईएसआईएस अफव्रेकी ने लगभग 20 वर्ष बाद इथोपिया में फिर से खुले इरिट्रिया के दूतावास का उद्घाटन किया. इस तरह से दोनों देशों के बीच टूट चुके संबंधों में नई शुरुआत हुई.

समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक दूतावास का उद्घाटन आईएसआईएस के इथोपिया की राजधानी के ऐतिहासिक दौरे के दौरान हुआ. पिछले हफ्ते ही दोनों देशों ने दो दशक से चले आ रहे विवाद को समाप्त करने की घोषणा की थी. इथोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद ने इरिट्रिया के राष्ट्रपति को दूतावास की चाभी सौंपी. इथोपिया के सरकारी टेलीविजन ने अदिस अबाबा के निचले शहर में स्थित दूतावास में इरिट्रिया के राष्ट्रपति को दूतावास के ऊपर इरिट्रिया का राष्ट्रीय झंडा फहराते हुए दिखाया. इस दौरान यह भी दिखा कि दूतावास के फर्नीचरों पर धूल जमी थी और उन्हें देख यह लग रहा था कि वर्षों से किसी ने इन्हें छुआ तक नहीं है. इरिट्रिया के राष्ट्रपति 3 दिन के दौरे पर इथोपिया आए थे.

ऐसे सुलझा विवाद

इथोपिया और इरिट्रिया के बीच 2002 से ही संबंधों में कोई बदलाव नहीं आ रहे थे और दोनों देशों के बीच शीत युद्ध की स्थिति थी. इसकी मूल वजह थी, संयुक्त राष्ट्रसंघ द्वारा दोनों देशों के बीच किए सीमा निर्धारण को इथोपिया द्वारा मानने से इनकार करना. इथोपिया के नए प्रधानमंत्री अबी अहमद ने पिछले महीने शांति की दिशा में कदम उठाते हुए यूएन के सीमा निर्धारण को मानते हुए इरिट्रिया को अपने कब्जे वाली जमीन सौंपने की घोषणा की थी.

अप्रैल में पद संभालने के बाद से ही अबी अहमद ने तेजी से सुधारात्मक एजेंडे को लागू किया है, जिसमें इरिट्रिया से शांतिपूर्ण संबंध, विरोधियों को जेल से रिहा करना और अर्थव्यवस्था को उदार बनाना शामिल है. इरिट्रिया एक वक्त इथोपिया का ही एक प्रांत था और दशकों के खूनी स्वतंत्रता संघर्ष के बाद 1993 में इरिट्रिया के लोगों ने इथोपिया से अलग होने के फैसले में मतदान किया था.

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार इथोपिया ने अभी इरिट्रिया की राजधानी अस्मारा में अपने दूतावास को नहीं खोला है.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
KUMBH: IT's MORE THAN A MELA

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi