S M L

मिस्र की अदालत ने 75 लोगों को सुनाई सज़ा-ए-मौत, ये थी वजह

फोटो जर्नलिस्ट महमूद अबु जैद को 5 साल के कैद की सजा सुनाई गई है, उसे हिंसक लड़ाई को कवर करने के लिए गिरफ्तार किया गया था

Updated On: Sep 09, 2018 11:38 AM IST

FP Staff

0
मिस्र की अदालत ने 75 लोगों को सुनाई सज़ा-ए-मौत, ये थी वजह

मिस्र की एक अदालत ने साल 2013 के प्रदर्शन मामले में मुस्लिम ब्रदरहुड के प्रमुख नेताओं के साथ साथ 75 लोगों को मौत की सजा सुनाई है. बता दें कि कोर्ट ने 739 अभियुक्तों वाले मामले में ब्रदरहुड के प्रमुख मोहम्मद बडाई और 46 अन्य आरोपियों को उम्रकैद की सजा सुनाई है. इन पर हत्या और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप थे.

सिर्फ इतना ही नहीं महमूद अबु जैद नामक एक फोटो जर्नलिस्ट को 5 साल के कैद की सजा सुनाई गई है. उस फोटो जर्नलिस्ट को 'शौकन' के नाम से भी जाना जाता है. दरअसल शौकन को अगस्त 2013 में सुरक्षाबलों और अपदस्थ राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के समर्थकों के बीच हिंसक लड़ाई को कवर करने के लिए गिरफ्तार किया गया था.

प्रदर्शन में 600 लोगों की हो गई थी मौत

गौरतलब है कि साल 2013 में इस भयानक प्रदर्शन को समाप्त कराने के लिए सुरक्षाबलों की कार्रवाई में करीब 600 लोगों की मौत हो गई थी. इनमें सबसे ज्यादा मौत काहिरा के राबा अल-अदविया स्कवेयर पर हुई थी. ये सभी प्रदर्शनकारी मुर्सी के समर्थक और मुस्लिम ब्रदरहुड के सदस्य थे. प्रदर्शनकारी अब्देल फतह अल-सिसी के सैन्य तख्तापलट के खिलाफ मोरसी के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे थे. आपको बता दें कि अल-सिसी ने 3 जुलाई 2013 को तख्तापलट कर दिया था.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi