S M L

डोनाल्ड ट्रंप ने पॉर्न स्टार को चुप कराने को दिए थे पैसे, पूर्व वकील माइकल कोहेन ने मानी गलती

डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप लगे थे कि दो महिलाओं के साथ उनका अफेयर था. ऐसे में चुनाव के दौरान इन महिलाओं का मुंह बंद रखने के लिए इन्हें पैसे दिए गए थे

Updated On: Aug 22, 2018 09:52 AM IST

FP Staff

0
डोनाल्ड ट्रंप ने पॉर्न स्टार को चुप कराने को दिए थे पैसे, पूर्व वकील माइकल कोहेन ने मानी गलती

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पूर्व वकील माइकल कोहेन ने कोर्ट में अपनी गलती मान ली है और इससे ट्रंप के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं. कोहेन पर आठ अलग-अलग आपराधिक मामलों पर केस चल रहे हैं. कोहेन ने मंगलवार को फेडरल कोर्ट में सुनवाई के दौरान ये माना कि उन्होंने 2016 के राष्ट्रपति चुनाव से पहले ट्रंप के कहने पर दो महिलाओं को पैसे दिए थे. ये चुनाव प्रचार का उल्लंघन है.

डोनाल्ड ट्रंप पर आरोप लगे थे कि दो महिलाओं के साथ उनका अफेयर था. ऐसे में चुनाव के दौरान इन महिलाओं का मुंह बंद रखने के लिए इन्हें पैसे दिए गए थे. वकील माइकल कोहेन के मुताबिक इसके लिए पॉर्न स्टार स्टॉर्मी डेनियल्स को एक लाख 30 हजार डॉलर (करीब 90 लाख रुपए) दिए गए थे. इसके अलावा एक मैगजीन की मॉडल को एक लाख 50 हज़ार डॉलर दिए गए.

51 साल के कोहेन ने फेडरल कोर्ट में 8 अलग-अलग आपराधिक मामलों में अपनी गलती मानी है. जिसमें टैक्स चोरी और बैंक में धोखाधड़ी के मामले भी शामिल हैं. कोहेन ने कोर्ट में सीधे-सीधे ट्रंप का नाम नहीं लिया लेकिन उनके वकील लैनी डेविस ने कहा कि कोहेन का इशारा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर था.

ट्रंप ने महिलाओं के साथ संबंधों से इनकार किया है. उनके वकील रूडी गियुलानी ने कहा कि ये पैसे ट्रंप और उनके परिवार को शर्मिंदगी से बचाने के दिया गया था. इन पैसों का चुनाव प्रचार से कोई संबंध नहीं है.

वेस्ट वर्जीनिया में ट्रंप की एक रैली थी लेकिन ट्रंप ने इस बारे कुछ भी नहीं कहा. इसके अलावा इस मामले पर वाइट हाउस से भी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.

ट्रंप के पूर्व कैंपेनर पॉल मैनफोर्ट भी आठ आरोपों में दोषी करार 

वहींं मंगलवार को ट्रंप प्रचार अभियान के पूर्व कैंपेनर पॉल मैनफोर्ट को भी आठ मामलों में दोषी करार दिया गया है. डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के प्रमुख रहे पॉल मैनफोर्ट को अदालत ने वित्तीय अपराध के आठ मामलों में दोषी पाया है.

राष्ट्रपति ट्रंप के अभियान की जांच कर रहे अभियोजक के लिए यह पहली अदालती जीत है. 10 अन्य मामलों पर ज्यूरी में सहमति नहीं बन पाने के कारण जज ने उन्हें खारिज कर दिया.

मंगलवार को आया यह फैसला वाइट हाउस के लिए बहुत बुरी खबर है क्योंकि माइकल कोहेन ने भी अपना दोष स्वीकार कर लिया है.

ज्यूरी ने मैनफोर्ट के खिलाफ लगे कर चोरी और बैंक धोखाधड़ी के मामलों पर चार दिन विचार करने के बाद यह फैसला दिया है. इस फैसले के बाद मैनफोर्ट का कुछ वर्षों के लिए जेल जाना लगभग तय हो गया है.

इसके साथ ही ट्रंप अभियान में धांधली की जांच कर रहे विशेष अभियोजक रॉबर्ट मूलर की टीम को यह पहली जीत मिली है.

हालांकि, मैनफोर्ट के खिलाफ फैसले के बाद यह सवाल उठने लगा है कि क्या राष्ट्रपति ट्रंप उनके लिए माफी की मांग करेंगे.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
Ganesh Chaturthi 2018: आपके कष्टों को मिटाने आ रहे हैं विघ्नहर्ता

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi