विधानसभा चुनाव | गुजरात | हिमाचल प्रदेश
S M L

पुतिन का 'डॉग लव': बर्थडे पर इस देश के राष्ट्रपति ने दिया अनोखा तोहफा

रशिया ने पिछले साल दाम को लेकर हुए विवाद के चलते रूस ने इस देश से गैस खरीदना बंद कर दिया था. अब तुर्कमेनिस्तान रूस को गैस का निर्यात दुबारा शुरू करवाने की संभावना तलाश रहा है.

FP Staff Updated On: Oct 12, 2017 02:00 PM IST

0
पुतिन का 'डॉग लव': बर्थडे पर इस देश के राष्ट्रपति ने दिया अनोखा तोहफा

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को कुत्तों से बहुत प्यार है. उनके पास कई प्रजाति के कुत्ते हैं. और अगर उन्हें एक दुर्लभ किस्म का एक और डॉग बर्थडे गिफ्ट के तौर मिल जाए तो इससे बढ़िया क्या हो सकता है? इसकी साफ खुशी बुधवार को पुतिन के चेहरे पर नजर आई, जब तुर्किमेनिस्तान के राष्ट्रपति की ओर से उन्हें दुनिया के यूनीक ब्रीड का एक कुत्ता गिफ्ट किया.

65 साल के व्लादिमीर पुतिन का पिछले 7 अक्टूबर को जन्मदिन था. बुधवार को अपने तुर्कमेनिस्तानी समकक्ष गर्बांगुली बर्डीमखामेडोव से रशिया के सोची शहर में मिल रहे थे. बातचीत शुरू होने से पहले ही तुर्कमेनी राष्ट्रपति ने उन्हें अपने साथ लाया हुआ अलाबाई कुत्ता गिफ्ट किया. पुतिन इसे देखकर बहुत खुश हुए. उन्होंने अलाबाई कुत्ते को तुरंत अपनी गोद में उठा लिया और उसे माथे पर किस कर लिया.

अलाबाई शेफर्ड

उन्होंने उस कुत्ते को वर्नी कहकर बुलाया, जिसका रशियन में मतलब होता है- वफादार. अलाबाई सेंट्रल एशियन शेफर्ड डॉग्स की एक तुर्कमेनी नस्ल है. कम उम्र में क्यूट दिखने वाले ये डॉग बड़े होने पर खतरनाक शेफर्ड डॉग बनते हैं. खास बात ये है कि हाथ से बने हुए कालीनों और घोड़ों की एक पुरानी नस्ल अखल टीक ब्रीड के अलावा अलाबाई डॉग भी तुर्कमेनिस्तान के राष्ट्रीय धरोहरों में शामिल है.

नेचुरल गैस के चक्कर में पड़ा तुर्कमेनिस्तान

तुर्कमेनिस्तान दुनिया में नेचुरल गैस रिजर्व में चौथा स्थान रखता है. और तुर्कमेनी राष्ट्रपति की इस रूस यात्रा के पीछे यही कारण है. दरअसल, रशिया ने पिछले साल दाम को लेकर हुए विवाद के चलते रूस ने इस देश से गैस खरीदना बंद कर दिया था. अब तुर्कमेनिस्तान रूस को गैस का निर्यात दुबारा शुरू करवाने की संभावना तलाश रहा है. रूस के बाद अब चीन तुर्कमेनिस्तान का सबसे बड़ा ग्राहक है.

पुतिन की कोनी और एंजेला मर्केल

वैसे एक दिलचस्प बात ये भी है कि पुतिन के पास जितने भी कुत्ते हैं, उनमें से अधिकतर उन्हें दूसरे देशों के नेताओं और प्रतिनिधियों से मिले हुए हैं. जापान और बुल्गेरिया ने भी उन्हें दुर्लभ प्रजातियों के कुत्ते गिफ्ट किए हैं. पुतिन की फेवरेट डॉग थी काले रंग की लेब्राडोर, जिसका नाम था- कोनी. कोनी की 2014 मौत हो गई थी.

कोनी एक और वजह से मशहूर है. कोनी ने रूसी राष्ट्रपति और जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल की मुलाकात के दौरान उसने मर्केल को डरा दिया था. पुतिन को नहीं पता था कि मर्केल को कुत्ते पसंद नहीं हैं. उन्होंने उनसे माफी मांगी थी. जर्मन मीडिया में इसका बहुत अच्छा प्रभाव नहीं पड़ा था. उन्होंने कहा था कि अपने कुत्ते को मर्केल के सामने छोड़कर पुतिन ने जानबूझकर उन्हें डराने की कोशिश की थी.

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi