Co Sponsor
In association with
In association with
S M L

अमेरिका में हिंसक रैली के बाद घबराए भारतीय निवासी

वर्जीनिया विश्वविद्यालय में असोसिएट डीन ने कहा कि यह हिंसा यहां के लोगों के विचार या चरित्र का प्रतिनिधित्व नहीं करती है

Bhasha Updated On: Aug 14, 2017 08:57 PM IST

0
अमेरिका में हिंसक रैली के बाद घबराए भारतीय निवासी

श्वेतों को सर्वोच्च मानने वाले लोगों की रैली के हिंसक हो जाने के बाद से चार्लोट विले के निवासियों में बैचेनी और घबराहट फैली हुई है. यहां के अधिकतर निवासी भारतीय अमेरिकी हैं.

श्वेतों के प्रभुत्व को मानने वाले लोगों की रैली को विरोधियों का सामना करना पड़ा था. इसके चलते भड़की हिंसा में 32 साल की एक महिला की मौत हो गई थी.

वैसे कल दोपहर से शहर में हालात सामान्य होने लगे थे, लेकिन यहां के निवासी अब भी सदमे और खौफ में हैं. श्वेतों को सर्वोच्च मानने वालों की रैली के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रही भीड़ पर कार चढ़ा दी गई थी, जिसके बाद पूरे दिन हिंसा होती रही.

अमेरिकी राज्य वर्जीनिया के इस शहर में भारतीय और भारतीय-अमेरिकियों की खासी आबादी है. लेकिन शनिवार को हुई हिंसा में समुदाय के किसी भी व्यक्ति के घायल होने की कोई खबर नहीं है.

प्रदर्शन पर नजर रख रहे दो पुलिस अधिकारियों की तब मौत हो गई जब प्रदर्शन स्थल के नजदीक एक हैलिकाप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया. इसमें 19 अन्य लोग घायल हो गए.

वर्जीनिया विश्वविद्यालय में असोसिएट डीन फॉर फैकल्टी एंड रिसर्च, मास्टर कार्ड, शंकरन वेंकटरमन ने कहा , 'ऐसा कुछ हुआ है, इसे समझना और इस वास्तविकता का सामना करना हमारे लिए अब भी काफी मुश्किल है. यह शहर इस तरह का नहीं है.’ वेंकटरमन यहां बीते बीस साल से रह रहे हैं.

उनकी बेटी की दोस्त श्वेतों को सर्वोच्च मानने वालों की रैली के खिलाफ प्रदर्शन में शामिल होने गई थी और जब वह लौटी तो उसका पैर टूटा हुआ था.

उन्होंने कहा, ‘यह हिंसा यहां के लोगों के विचार या चरित्र का प्रतिनिधित्व नहीं करती है. हम प्रगतिशील लोग हैं जो विविधता और समावेश में विश्वास रखते हैं.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
AUTO EXPO 2018: MARUTI SUZUKI की नई SWIFT का इंतजार हुआ खत्म

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi