S M L

ट्रंप ने दी थी यूरोपियन यूनियन पर मुकदमा चलाने की सलाह: थेरेसा मे

विवादों के बीच ब्रिटेन की प्रधानमंत्री ने यह माना कि उन्हें ट्रंप ने यूरोपियन यूनियन से बिना बातचीत के अलग होने की सलाह दी थी, जिसे उन्होंने नहीं माना था

FP Staff Updated On: Jul 15, 2018 05:37 PM IST

0
ट्रंप ने दी थी यूरोपियन यूनियन पर मुकदमा चलाने की सलाह: थेरेसा मे

ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे ने रविवार को यह खुलासा किया कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें ब्रेग्जिट रणनीति के तहत यूरोपियन यूनियन पर मुकदमा चलाने और बातचीत नहीं करने की सलाह दी थी. बीबीसी को दिए इंटरव्यू में थेरेसा मे ने कहा कि उन्होंने मुझे कहा था कि मैं यूरोपियन यूनियन पर मुकदमा चलाऊं और उनके साथ किसी तरह के समझौते में नहीं जाऊं.

मे ने यह भी कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति ने अपने हालिया दौरे में उन्हें यह सलाह दी कि क्योंकि अब वे (थेरेसा मे) यूरोपियन यूनियन के साथ बातचीत में हैं तो वे अब इससे पीछे न हटें. मे ने कहा कि मैं बातचीत के द्वारा ब्रिटेन के हित में बेहतर डील करूंगी.

ब्रेग्जिट को लेकर ट्रंप के विरोधाभासी बयानों की वजह से पिछले कई दिनों से थेरेसा मे की ब्रिग्जिट को लेकर रणनीति सुर्खियों में बनी हुई है. ब्रिटिश प्रधानमंत्री से बातचीत से पहले 'द सन' को दिए इंटरव्यू में ट्रंप ने पहले कहा था कि कहा था कि ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे की ब्रेग्जिट रणनीति दोनों देशों के बीच व्यापार समझौते की गुंजाइश को ‘खत्म’ कर देगी. इंटरव्यू में ट्रंप ने दावा किया था कि थेरेसा ने ब्रेग्जिट (यूरोपीय संघ से ब्रिटेन का अलग होना) पर उनकी सलाह की अनदेखी की. ट्रंप ने इस इंटरव्यू में ब्रिटेन के पूर्व विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन की संभावित प्रधानमंत्री के तौर पर क्षमताओं को सराहा था.

ट्रंप ने मांगी थी माफी

इसके बाद थेरेसा मे से हुई द्विपक्षीय वार्ता के बाद हुए संवाददाता सम्मेलन में ट्रंप अपने इस इंटरव्यू में दिए बयानों से पलट गए और अपने शब्दों के लिए थेरेसा मे से माफी भी मांगी. ब्रिटिश प्रधानमंत्री से बकिंघमशायर स्थित उनके ‘कंट्री आवास’ ‘चेकर्स’ में वार्ता के बाद संयुक्त संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए अमेरिका राष्ट्रपति ने कहा था, ‘दोनों देशों के बीच संबंध स्वतंत्रता, न्याय और शांति के लिए अपरिहार्य हैं.’

ट्रंप ने कहा था, ‘मेरे बगल में मौजूद यह अविश्सनीय महिला शानदार काम कर रही है.’ ट्रंप ने बढ़ते विवाद से खुद को दूर करने के प्रयास के तहत मे की जमकर तारीफ की थी.

उन्होंने कहा था, ‘मैंने प्रधानमंत्री की आलोचना नहीं की. मेरे मन में उनके लिए काफी सम्मान है. दुर्भाग्य से एक खबर की गई जो आम तौर पर ठीक थी, लेकिन उसमें प्रधानमंत्री के बारे में मैंने जो कहा, उसे नहीं रखा गया.’

ब्रि को ‘बेहद कठिन स्थिति’ बताते हुए ट्रंप ने कहा, ‘आप जो भी करते हैं वह हमारे लिए ठीक है. सिर्फ इतना सुनिश्चित करें कि हम साथ व्यापार कर सकें. वही मायने रखता है. अमेरिका ब्रिटेन के साथ द्विपक्षीय व्यापार समझौते को अंतिम रूप दिए जाने को लेकर उत्सुक है.’

उन्होंने कहा था, ‘यह दोनों देशों के लिए शानदार अवसर है और हम इसका पूरा फायदा उठाएंगे.’

मे ने भी इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि अमेरिका ब्रिटेन के साथ ‘महत्वाकांक्षी’ करार करने को उत्सुक है. उन्होंने कहा था, ‘हम उनके साथ और शेष दुनिया के अन्य देशों के साथ व्यापारिक समझौता करेंगे.’

0

अन्य बड़ी खबरें

वीडियो
'हमारे देश की सबसे खूबसूरत चीज 'सेक्युलरिज़म' है लेकिन कुछ तो अजीब हो रहा है'- Taapsee Pannu

क्रिकेट स्कोर्स और भी

Firstpost Hindi